न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

न्यूज विंग इंपैक्ट : एक्शन में सरकार, कास्टिज्म करने वाले IPS अफसर जांच के दायरे में

पीएम के कार्यक्रम के बाद तेज होगी जांच, बातचीत की रिकॉर्डिंग मुख्य सचिव, गृह विभाग और सीएमओ तक पहुंची, पुलिस पदाधिकारियों ने भी की लिखित शिकायत

eidbanner
5,408

Ranchi : कास्टिज्म करने वाले आईपीएस अफसर इंद्रजीत महथा जांच के दायरे में आ गये हैं. इनके कास्टिज्म करने के मामले को सरकार ने गंभीरता से लिया है. सूत्रों के अनुसार पीएम के कार्यक्रम के बाद इस मसले पर जांच तेज की जायेगी. उनके द्वारा किये गये कास्टिज्म की रिकॉर्डिंग मुख्य सचिव, सीएमओ और गृह विभाग के प्रधान सचिव तक पहुंच गई है. इस मसले पर आला अधिकारियों के साथ चर्चा भी की गई है. गृह विभाग के प्रधान सचिव के अनुसार मामला संज्ञान में है. इस पर नियम संगत आगे की कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ें- आईएफएस आनंद मोहन शर्मा पर 152.50 एकड़ जमीन बेचने का आरोप, हो रही मामले की लीपापोती

पुलिस पदाधिकारियों ने भी की है लिखित शिकायत

इस मामले पर राज्य के मध्य और कनीय स्तर के पुलिस पदाधिकारियों ने भी गृह विभाग के प्रधान सचिव एसकेजी रहाटे से लिखित शिकायत की है. उन्होंने गृह सचिव को लिखे पत्र में कहा है कि आईपीएस अफसर इंद्रजीत महथा की मानसिकता पूरी तरह से जातीय आधार पर अपने स्वजातियों के पक्ष में बंटी है. महथा पूरी तरह से जातीय भावना से ग्रसित हैं. जिस तरह से उन्होंने अपने स्वजातियों के संबंध में बातें की हैं, और उन्हें प्रमोट करने की बात कही है, वह उनके घटिया मानसिकता को भी दर्शाता है.

इसे भी पढ़ें- पेयजल और स्वच्छता विभाग में अभियंता प्रमुख के पद के लिए अभी से ही लॉबिंग शुरू

Related Posts

लातेहारः SDO सह LRDC जयप्रकाश झा समेत पांच रेवेन्यू अफसरों पर धोखाधड़ी का केस दर्ज, जमीन का फर्जी दस्तावेज तैयार कर हड़प ली दिव्यांग की राशि

भुसाड़ ग्राम निवासी जंगाली भगत ने टोरी-महुआमिलान नई वीजी रेलवे लाईन निर्माण में स्वीकृत भूमि अधिग्रहण की राशि में हेराफेरी करने का लगाया आरोप

पुलिस की कार्यशैली को प्रभावित करने का प्रयास

पुलिस पदाधिकारियों ने अपनी शिकायत में कहा है कि महथा ने पुलिस की कार्यशैली को प्रभावित करने का प्रयास किया है. दूसरे जाति के पदाधिकारियों विशेषकर पिछड़ी जाति, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के वरीय आईपीएस पदाधिकारियों को तूल नहीं देने की बात की है. पुलिस पदाधिकारियों ने एसवीपीएनपीए के निदेशक डीआर डोले बर्मन को भी पत्र लिखकर इस पर कार्रवाई की मांग की है.

इसे भी पढ़ें- जंगली जानवरों ने एक लाख से अधिक लोगों के फसल और घरों को रौंदा, 1100 लोगों को मौत के घाट उतारा, वन विभाग रोकने में विफल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: