JharkhandLead NewsRanchi

NEWS WING IMPACT: उत्पाद मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा- शराब बिक्री में अवैध वसूली की शिकायत तत्काल टोल फ्री नंबर पर करें, होगी कार्रवाई, भेजे जायेंगे जेल 

Akshay Kumar Jha

Ranchi: झारखंड में शराब बिक्री पर बेरोकटोक अवैध वसूली जारी है. खुद शराब बेचनेवाले कर्मी कैमरे के सामने मान रहे हैं कि उन्हें ऊपर से ही अवैध वसूली का निर्देश मिला है. खबर की पड़ताल के दौरान पुख्ता सूत्रों ने बताया कि 70 करोड़ से भी ज्यादा की वसूली हर महीने हो रही है. लेकिन विभाग ने मौन साध रखा है. इस खबर को न्यूज विंग ने प्रमुखता से छापा. खबर सोशल मीडिया पर शेयर होने के बाद न्यूज विंग संवादाता को उत्पाद मंत्री जगरनाथ महतो का फोन आया. इस मामले पर मंत्री श्री महतो ने पूरी जानकारी ली और न्यूज विंग के सवालों का जवाब दिया. जानिए क्या कहा मंत्री जगरनाथ महतो ने.

इसे भी पढ़ें – किसकी जेब में जा रहा है हर महीने शराब कारोबार के अवैध वसूली का 65-70 करोड़, शराब दुकानदार कह रहे ऊपर से है वसूली का आदेश

सवालः झारखंड में हर महीने करोड़ों रुपये की अवैध वसूली हो रही है. इस पर आपका क्या कहना है.

जवाबः आपकी खबर और कुछ शिकायतों के माध्यम से जानकारी मिली है. मैं बार-बार कहता आया हूं कि इन्हीं सब मामलों से निबटने के लिए हर दुकान पर टोल फ्री नंबर जारी किया गया है. दो टोल नंबर हैं. अगर कहीं भी प्रिंट रेट से ज्यादा दाम मांगा जा रहा है तो तत्काल लोगों को टोल फ्री नंबर पर कॉल करना चाहिए. टोल फ्री नंबर पर शिकायत दर्ज होते ही कार्रवाई की जायेगी. रांची समेत कुछ शहरों में कार्रवाई हुई भी है. ज्यादा पैसा लेनेवालों को सीधा जेल भी भेजा गया है. इसलिए मैं फिर कहूंगा कि टोल फ्री नंबर ग्राहकों की सुविधा के लिए है. कुछ भी गड़बड़ दिखे तो नंबर पर कॉल कीजिए.

सवालः दुकानों पर रेट चार्ट क्यों नहीं लगा है.

जवाबः मेरी जानकारी में हर दुकान में रेट चार्ट होना चाहिए. मैं विभाग के अधिकारियों से बात कर तत्काल रेट चार्ट की व्यवस्था करने को कहता हूं. वैसे शराब की कीमत हर बोतल पर प्रिंटेड है. प्रिंट रेट से ज्यादा कोई ले तो टोल फ्री नंबर पर शिकायत करें.

सवालः डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था हर दुकान पर क्यों नहीं है.

जवाबः ज्यादातर दुकानों में डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था है. कुछ तकनीकी वजहों से पूरी तरह से फिलहाल शुरू नहीं हो पाया है. लेकिन बहुत जल्द ही यह व्यवस्था लागू की जायेगी.

सवालः शराब की बिक्री में सुधार के लिए और क्या किया जा रहा है.

जवाबः विभाग का प्रयास है कि किसी तरह भी नकली शराब की बिक्री पर नकेल कसी जाये. इससे न सिर्फ सरकार को राजस्व का घाटा होता है, बल्कि लोगों की सेहत पर भी असर पड़ता है. हाल ही में बोकारो और रांची में नकली शराब बेचनेवाले बड़े सिंडिकेट की गिरफ्तारी हुई है. आगे भी ऐसी कार्रवाई होती रहेगी. किसी भी हाल में नकली शराब बेचनेवालों को बख्शा नहीं जायेगा.

इसे भी पढ़ें – रांची में होंगे भारत-बांग्लादेश के दिव्यांगजनों के बीच तीन T-20 क्रिकेट मैच, SS Trophy का हुआ अनावरण

Related Articles

Back to top button