Sports

News Wing Impact : खिलाड़ियों की सीधी नियुक्ति पर 9 जुलाई को होगी बैठक, 34 खिलाड़ियों को मिल सकती है अच्छी खबर

विज्ञापन
Advertisement

Ranchi : सीएस की अध्यक्षता में खेल विभाग की बैठक 9 जुलाई को होनी है. इसमें खिलाड़ियों की सीधी नियुक्ति मामले पर बड़ा फैसला लिये जाने की उम्मीद है. खास कर ऐसे प्लेयर्स जिन्होंने पिछले साल सीधी नियुक्ति के विज्ञापन के आधार पर आवेदन किया था, उनके मामले पर विचार किया जायेगा. न्यूज विंग में दो टैलेंटेड प्लेयर्स की बदहाली पर 1 जुलाई को छपी खबर पर सरकार ने संज्ञान लेते हुए यह पहल की है.

इसे भी पढ़ें – Corona: गिरिडीह से 3 और लातेहार से 1 नये संक्रमित की पुष्टि, झारखंड का आंकड़ा 2529 पहुंचा

मजदूरी करने और हंड़िया बेचने की नौबत

न्यूज विंग में राज्य के दो अहम प्लेयर्स आलोक लकड़ा और विमला मुंडा के बारे में एक खबर प्रसारित हुई थी. इसका शीर्षक था- मेडल की चमक हुई फीकीः कॉमनवेल्थ खेल चुके आलोक बने मनरेगा मजदूर, नेशनल गेम में सिल्वर जीत विमला बेच रहीं हंड़िया. इस खबर के सामने आने के बाद राज्य सरकार ने संजीदगी दिखायी है. दोनों प्लेयर्स ने सरकार से पूर्व में खिलाड़ियों के लिए निकाली गयी सीधी नियुक्ति मामले पर जल्दी फैसला लिये जाने की गुहार लगायी थी. अब मुख्य सचिव की अध्यक्षतावाली समिति 9 जुलाई को इस पर फैसला ले सकती है. बैठक में विभागीय सचिव पूजा सिंघल, खेल निदेशक अनिल कुमार सिंह और अन्य के शामिल रहने की उम्मीद है.

advt

34 प्लेयर्स की हो चुकी है फाइनल स्क्रूटनी

खेल विभाग ने वर्ष 2019 में झारखंडी प्लेयर्स को नौकरी का मौका देने को सीधी नियुक्ति का एक विज्ञापन जारी किया था. सरकार के अलग अलग विभागों में उन्हें बी, सी और डी श्रेणी के पदों पर योग्यता के अनुसार नियुक्त किया जाना था. प्राप्त आवेदनों के आधार पर विभाग ने इस साल फरवरी में कुल 34 प्लेयर्स को शॉर्टलिस्टेड किया था. ये ऐसे प्लेयर्स हैं जिन्होंने इंटरनेशनल, नेशनल लेवल पर अपना हुनर दिखाया है. लॉकडाउन के कारण इनकी नियुक्ति संबंधी फाइल अटकी थी. न्यूज विंग ने सीधी नियुक्ति मामले पर लगातार खबरें भी प्रसारित की थीं. 1 जुलाई को भी छपी खबर के बाद अब सरकार ने इस मामले पर ठोस डिसिजन लेने का मन बना लिया है.

इसे भी पढ़ें – मंदिर में सिर्फ पुजारी करें पूजा, बाबाधाम और बासुकीनाथ को हाइजेनिक बनाये जिला प्रशासन : हेमंत सोरेन

1 जुलाई के प्रसारित हुई थी यह खबर

मेडल की चमक हुई फीकीः कॉमनवेल्थ खेल चुके आलोक बने मनरेगा मजदूर, नेशनल गेम में सिल्वर जीत विमला बेच रहीं हड़िया

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: