World

पाकिस्तानी संसद में लात-घूंसे चलने की खबर, इमरान खान के खिलाफ लगे गो नियाजी गो… के नारे

Islamabad : पाकिस्तान की संसद मजलिस-ए-शूरा में 12 सितंबर को पक्ष-विपक्ष के नेताओं के बीच लात-घूंसे चलने की खबर है. जान लें कि राष्ट्रपति आरिफ अल्वी के संबोधन के कुछ ही देर बाद संसद में जोर-जोर से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ नारेबाजी होने लगी. विपक्षी पार्टियों की इस नारेबाजी को देखते ही सत्तारुढ़ पार्टी पीटीआई के सांसद आक्रामक हो गये .

इसके बाद वे नारेबाजी कर रहे विपक्षी सांसदों पर टूट पड़े ओर धक्का-मुक्की करने लगे.  इस क्रम में एक महिला सांसद के साथ भी धक्का-मुक्की की गयी. इसके बाद हंगामा थमने की बजाय और भी बढ़ गया.

इसे भी पढ़ें – झारखंड के डीसी IAS Code of Conduct के खिलाफ जाकर चला रहे हैं #jharkhandwithmodi कैंपेन

 इमरान के खिलाफ हंगामा शुरू हो गया

विपक्षी सांसदों ने संसद की वेल में आकर पीएम इमरान खान के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की. उनके खिलाफ विपक्षी नेताओं ने Go Niazi Go के नारे लगाये. जानकारी के अनुसार मजलिस-ए-शूरा में शाम के पांच बजे जैसे ही राष्ट्रपति का संबोधन शुरु हुआ कि सदन में इमरान के खिलाफ हंगामा शुरू हो गया.

तहरीक-ए-इंसाफ और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के नेता एक-दूसरे पर लात-घूंसें बरसाने लगे. संसद में उस समय पाकिस्तान के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और सभी सेनाध्यक्ष मौजूद थे. इमरान खान ने अपनी सरकार के एक साल पूरा होने पर अधिवेशन बुलाया था. विपक्षी नेताओं ने इमरान को आर्थिक, रक्षा और विदेशी मामलों समेत सभी मोर्चों पर फेल बताते हुए हंगामा किया.

इसे भी पढ़ें – बैंकों के विलय के खिलाफ चार #TradeUnions की देशव्यापी हड़ताल 26-27 सितंबर को

पीएम इमरान खान का पूरा नाम इमरान अहमद खान नियाजी है

जान लें कि पीएम इमरान खान का पूरा नाम इमरान अहमद खान नियाजी है. गो नियाजी गो कहने के पीछे की एक बड़ी वजह यह रही कि इमरान की तुलना जनरल नियाजी से की गयी. . जेनरल नियाजी ही वह शख्स था, जिसकी अगुवाई में पाकिस्तान बांग्लादेश में भारत के साथ युद्ध लड़ रहा था, जिसमें पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी और भारत ने दुनियाभर में अपनी ताकत का लोहा मनवाया था.

इसी युद्ध के बाद पाकिस्तान के दो टुकड़े हुए थे और बांग्लादेश एक स्वतंत्र राष्ट्र बना था. 1971 में हुए इस युद्ध में जनरल नियाजी को करीब 92 हजार सैनिकों के साथ भारतीय फौज के सामने आत्मसमर्पण करना पड़ा था.

इसे भी पढ़ें – चुनाव से पहले हेमंत का आदिवासी कार्डः बीजेपी में आदिवासी नेताओं की अनदेखी का लगाया आरोप

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: