न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चुनाव आते ही इटखोरी कायाकल्प की खबरें ठंडे बस्ते से बाहर निकली, 5 साल से यही सुन रहे

942

Naushad  Alam

Chatra : चतरा के इटखोरी में दुनिया का सबसे बड़ा बौद्ध स्तुप का निमार्ण किया जायेगा. राज्य सरकार की ओर से इसके लिए डिजाइन तैयार कर लिया गया है. निमार्ण की कुल लागत 522 करोड़ होगी. पिछले दिनों झारखंड टूर कॉन्क्लेव में मुख्यमंत्री ने इसकी घोषणा की. फिलहाल निमार्ण के लिए वन विभाग से फॉरेस्ट क्लीयरेंस नहीं मिला है.

राज्य सरकार अत्याधुनिक तरीके से इसका निमार्ण करने वाली है. सिर्फ स्तूप ही नहीं यहां बुद्धिस्ट सर्किट भी बनायी जायेगी. इसी क्षेत्र में भद्रकाली मंदिर भी है. उस मंदिर को भी विकसित किया जायेगा. इसके लिए मास्टर प्लान तैयार है. पहले चरण में 67 करोड़ की लागत से मेगा प्लाजा बनाया जायेगा. फिलहाल हर अखबार में इटखोरी का मुद्दा छाया.

इसे भी पढ़ें – #TB में बेहतर प्रदर्शन के लिए #NITIAayog ने #Jharkhand को दिया था पहला स्थान, जबकि 18 की जगह 7 कर्मचारी ही कार्यरत

इसपर झारखंड के नौशाद आलम ने फेसबुक में क्या लिखा है पढ़िए:

भद्रकाली मंदिर भी बढ़िया मुद्दा बन गया है. कभी इसका कायाकल्प होने लगता है और कभी ठंडे बस्ते में पड़ जाता है.

Mayfair 2-1-2020

अभी चुनाव नजदीक आया है तो इसका कायाकल्प होने की खबर फिर से ठंडे बस्ते से बाहर निकल आई है.

क्या भई तो…

Sport House

500 करोड़ से बदलेगी इटखोरी की सूरत

इटखोरी में बनेगा दुनिया का सबसे ऊंचा स्तूप

इंटरनेशनल होगा इटखोरी का म्यूजियम

आदि आदि…

इसे भी पढ़ें – #HoneyTrap: वीडियो क्लिप बनाने के लिए लिपस्टिक व चश्मे में छिपे कैमरे का इस्तेमाल करती थीं लड़कियां

भई ये तो पांच साल से सुन पढ़ रहे हैं. इतने दिनों में 3-4 बार तो अपने भास्कर में ही छाप चुके हैं. कोई कोई अखबार तो सेम यही खबरिया 10-10 या 20-20 बार छाप चुका है.

ई सरकार ने बढ़िया काम किया है. मास्टरप्लान तैयार कराकर फाइल में रख लिया है और जब जब मन होता है उसे निकालकर पत्रकरवन को दे देता है. कभी चतरा में तो कभी रांची में तो कभी जमशेदपुर में. अभी फिर से पूरे झारखंड में छपा है. ऐसे कि बस एकदम अबरी बनिये जाएगा. पिछली बार सेम हेडिंग से रांची में छापा था.

नीचे वाला फोटवा तो यादे होगा सबको. दो साल पहले ऐसे लाव लश्कर ले कर आये थे कि बस अब तो कल ही से कमवा शुरू हो जाएगा. लेकिन सब को पता तो है ही कि कितना काम हुआ ?

भई बनाना है तो बनाओ न. सब तो चाहता ही है कि मंदिर का कायाकल्प हो और चतरा देश दुनिया के नजर में आए.

बकी ई खाली मास्टरप्लनवा चमकावै से का होगा। पिछले 5 साल से तो सिर्फ यही करले चलल आ रहे हैं।

नौशाद आलम के फेसबुक से साभार….

इसे भी पढ़ें – मारपीट की खबर सामने आने के बाद पुलिस मेंस एसोसिएशन के अध्यक्ष ने जारी किया खुला पत्र, पढ़ें क्या लिखा है…

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like