न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एक जनवरी से रांची में नया ट्रैफिक रूल, 30-31 को जागरुकता अभियान

2,212

Ranchi: एक जनवरी 2019 से राजधानी रांची की ट्रैफिक व्यवस्था में बदलाव होगा. एक जनवरी से यातायात नियमों का उल्लंघन करनेवालों की पहचान के लिए प्रमुख चौक-चौराहों पर हाई डेफिनेशन सीसीटीवी कैमरे काम करने लगेंगे. और इनके जरिये चालान काटने की व्यवस्था शुरू हो जायेगी. ट्रैफिक नियम में हो रहे बदलाव की जानकारी के लिए 30 और 31 दिसंबर तक नियमों का पालन करने संबंधी जागरूकता अभियान चलाया जायेगा.

नया ट्रैफिक रूल राजधानी वासियों के लिए सौगात बनेगा या आफत 

राजधानी में नयी ट्रैफिक व्यवस्था को लेकर पहले ट्रायल की बात कही गयी थी. लेकिन ट्रायल विफल रही. अब एक जनवरी से इसे फिर से लागू किया जा रहा है. विभाग की ओर से राजधानी वासियों को यातयात के नियमों को लेकर 30 से 31 दिसंबर तक जागरूकता अभियान चलाया जायेगा. अब देखना है कि नए साल में नया ट्रैफिक नियम राजधानी वासियों के लिए सौगात बनेगा या आफत. लेकिन लोगों को अभी से इस दिशा में सतर्क होने की जरूरत है.

 16 चौक चौराहे पर लगे हैं हाई डेफिनेशन कैमरे

एक जनवरी से सीसीटीवी के जरिए चालान काटने की व्यवस्था शुरू हो जायेगी. नियम शुरू होने के बाद पुलिस को चकमा देकर भागने वालों की गाड़ी के नंबर भी हाई डेफिनेशन कैमरे में कैद हो जाएंगे. फिर उसी आधार पर उनके घर तक चालान पहुंचा दिया जायेगा.

 दो तरह के कैमरे लगे हैं

शहर में दो प्रकार के कैमरे लगाए गए हैं, जिसमें पहला एएनपीआर (ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकॉग्नेशन) कैमरा और दूसरा आरएलवीड (रेड लाइन वॉयलेशन डिटेक्शन) कैमरा है. इन कैमरों की मदद से शहर के किसी भी सड़क या चौक- चौराहों में यातायात नियमों का उल्लंघन करनेवाले, रेड लाइन जंप करनेवाले, बिना हेलमेट या ट्रिपल राइडिंग करनेवाले वाहन चालकों के नंबर को ट्रेस कर लिया जायेगा.

 हाईटेक कंट्रोल रूम बनाया गया है 

16 चौक चौराहे पर लगे सभी सीसीटीवी कैमरों की मॉनिटरिंग के लिए हाईटेक कंट्रोल रूम भी बनाया गया है. जहां से शहर की विभिन्न सड़कों में चल रहे वाहनों की गतिविधियों पर पैनी नजर रखी जायेगी.

 इन चौराहों पर लगेंगे हाई स्पीड कैमरे 

जेल चौक, अरगोड़ा चौक, चांदनी चौक, सर्जना चौक, बिरसा चौक, प्रेमसंस मंदिर चौक, सुजाता चौक, करम टोली चौक, सहजानंद चौक, हिनू चौक, कचहरी चौक, बूटी मोड़ चौक, रातू रोड चौक, एजी मोड़ चौक, सिरम टोली चौक और लालपुर चौक.

इसे भी पढ़ेंः 30 दिसंबर 1986 को ब्रिटिश सरकार ने कोयला खदानों में जहरीली गैस पहचानने वाली चिड़िया हटाई

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: