न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नवनियुक्त सरकारी शिक्षकों को देना होगा दहेज न लेने और न देने का शपथ पत्र

51

Dhanbad: मंगलवार को जिले के 60 शिक्षकों को मिश्रित भवन (डीआरडीए सभागार) में नियुक्ति पत्र दिया जायेगा. इसके लिये नियुक्ति पत्र में कुछ संकल्प दिये गये हैं जिसे नियुक्त हो रहे शिक्षकों को अनिवार्य रूप से मानना है. इसके अन्तर्गत नियुक्त हो रहे अविवाहित शिक्षक/ शिक्षिका को यह शपथ पत्र देना होगा कि वे अपने विवाह के समय दहेज नहीं देंगे और न ही किसी प्रकार का दहेज लेंगे.

यह कदम दहेज पर रोक लगाने के उद्देश्य से उठाया जा रहा है. जिससे समाज में एक अच्छा संदेश जाये. इसके अलावा आरक्षित पद पर नियुक्त होने वाले को झारखंड का आवासीय प्रमाण पत्र और जाति प्रमाण पत्र एसडीओ से निर्गत देना होगा. अन्य राज्य का मान्य नहीं होगा.

206 में 54 ही शिक्षक कार्यरत

वर्तमान में जिले में कुल 126 +2 सरकारी विद्यालय हैं. इन स्कूलों में कुल 206 शिक्षकों के पद हैं, जबकि केवल 54 शिक्षक ही कार्यरत हैं. शिक्षकों की कमी के कारण स्कूलों में सभी विषयों की पढ़ाई नहीं हो रही है. इसके कारण लगातार शिक्षकों की नियुक्ति की मांग होती रही है. पिछले साल नियुक्ति के लिए परीक्षा ली गई थी, जिसमें पास हुए अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र दिया जायेगा. यह नियुक्ति माध्यमिक शिक्षा, झारखंड के निदेशक ने की है. नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम में धनबाद के सांसद- पशुपतिनाथ सिंह, गिरिडीह सांसद- रवींद्र पान्डेय, विधायक- राज सिन्हा, फूलचंद मंडल, ढुल्लू महतो, राज किशोर महतो आदि को आमंत्रित किया गया है.

नियुक्ति के लिए शिक्षकों दिये गये निर्देश इस प्रकार हैं

सभी नवनियुक्त शिक्षक 15/12/18 तक अनिवार्य रूप से योगदान करेंगे. इसके बाद योगदान नहीं होगा. इसके बाद निदेशक माध्यमिक शिक्षा से आदेश प्राप्त होने से ही योगदान लिया जायेगा. योगदान के समय सभी शैक्षणिक, प्रशैक्षणिक प्रमाण-पत्र की मूल प्रति से मिलान किया जायेगा. प्रमाण-पत्र की जांच की जाएगी. मान्यता प्राप्त है या नहीं. सिविल सर्जन से योगदान के लिए सर्टिफ़िकेट बनवाना होगा. इसके अलावा उनके ऊपर किसी तरह मुकदमा थाना में दर्ज नहीं हो. नवनियुक्त शिक्षक नियुक्ति पत्र लेने के लिए अपना प्रवेश पत्र और पहचान के लिए आधार कार्ड अनिवार्य रूप से लेकर आएंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: