न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रिम्स में चोरी का नया खेल शुरू, स्क्रैप के साथ-साथ अब पंखों में लगे कॉपर वायर हो रहे गायब

40

Ranchi : रिम्स में कई प्रकार के घटनाएं सामने आती रहती हैं. कभी मरीजों के इलाज में लापरवाही का मामला सामने आता है, कभी मरीजों को दिये जानेवाले खाने में कमी, तो कभी मारपीट, चोरी और यहां तक कि हड़ताल जैसी घटनाओं से भी रिम्स के मरीजों को दो-चार होना पड़ा है. लेकिन, इन दिनों एक नयी घटना से रिम्स के मरीज और प्रबंधन परेशान हैं. दरअसल रिम्स के वार्ड में लगे पंखों की चोरी इन दिनों बढ़ गयी है. पंखा चोर पंखे में लगे कॉपर तार को निकाकर बेच रहे हैं. रिम्स में पंखों और उनमें लगे कॉपर वायर की चोरी की घटना का ताजा मामला सामने आया है. रिम्स के बिजली मेंटेनेंस का काम देखनेवाले पंखा के कॉपर वायर बेचकर मालामाल हो रहे हैं. यह बात जांच में भी सामने आ चुकी है. रिम्स में प्रबंधन ने भी प्रथम दृष्टया गड़बड़ी की बात मानी है.

ऐसे हो रहा है खेल

रिम्स में बिजली मेंटेनेंस का काम देखनेवाले कर्मचारी पंखा की मरम्मत के लिए पंखा को खोलते हैं, फिर पंखा के अंदर लगे कॉपर वायर को निकालकर चोर इसे बड़ी कीमत में बेचते हैं. रिम्स में वर्षों से पंखे और बल्ब लगे हैं, इनमें ज्यादातर पंखे खराब ही हैं. इन खराब पंखों को उतारकर उसे स्टोर रूम में रखा जाता है, जहां चोर घटना को अंजाम देते हैं. रिम्स में लापरवाही का यह कोई नया मामला नहीं है. आये दिन यहां से लाखों रुपये के स्क्रैप जुगाड़ के रास्ते पार किये जा रहे हैं. अब मरीजों को राहत की नींद और सुकून देनेवाले पंखे से कॉपर वायर की चोरी के पीछे कहीं न कहीं बड़े सिंडिकेट का हाथ होने का संकेत मिल रहा है, जिसमें प्रबंधन के लोगों के मिले होने की बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता.

डेंगू वार्ड के पास पड़े स्क्रैप को भी चोरों ने उड़ाया

रिम्स के डेंगू वार्ड के पास स्क्रैप स्टोर में लाखों के माल पर चोरों ने हाथ साफ कर दिया है. इसकी सूचना रिम्स प्रबंधन को दी गयी थी, जिसके बाद खुद रिम्स प्रबंधन के सदस्यों ने स्टोर रूम पंहुचकर इसकी जांच की, जिसमें मामले को सही पाया गया. लेकिन, तब तक चोर चोरी का सामान लेकर भाग चुके थे.

कुछ न कुछ गड़बडी हुई है : डिप्टी सुपरिंटेंडेंट

रिम्स के डिप्टी सुपरिंटेंडेंट डॉ संजय कुमार ने बताया कि उन्हें मामले की जानकारी मिली है. इसकी जांच के लिए वह खुद गये थे, जहां से सामग्री गायब थी. प्रथम दृष्टया यही लगता है कि कुछ न कुछ गड़बड़ी अवश्य हुई है. इस संबंध में उच्च अधिकारी को जानकारी दे दी गयी है.

सुपरिंटेंडेंट ने संबंधित अधिकारियों की लगायी क्लास

रिम्स से पंखा रिपेयरिंग के नाम पर स्क्रैप गायब करने के मामले में सुपरिंटेंडेंट डॉ विवेक कश्यप ने बिजली विभाग के अधिकारियों की क्लास लगायी है. उन्होंने अधिकारी से पूछा कि किसके आदेश पर पंखा बदलने का काम किया जा रहा है. वहीं, रिपयेरिंग के लिए किसने स्टाफ्स को लगाया है. इस पर अधिकारी ने जवाब देते हुए कहा कि उन्हें कोई जानकारी नहीं है. ठेकेदार ही स्टाफ्स को काम पर लगाते हैं. इसके बाद सुपरिंटेंडेंट ने बिजली विभाग के एई को पत्र भेजने का आदेश दिया.

इसे भी पढ़ें- आयुष्मान भारत योजना से प्रबुद्ध समाजसेवी वर्ग को भी जोड़ें : महेश पोद्दार

इसे भी पढ़ें- झारखंड को विश्व बैंक देगा 31 करोड़ डॉलर का कर्ज

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: