न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नयी बिजली दर में फंस सकता है पेंच, ग्रामीण और शहरी दर एक समान करने पर आपत्ति

41
  • झारखंड राज्य विद्युत नियामक आयोग कर रहा मंथन, वितरण निगम से मांगा जायेगा जवाब
  • नये प्रस्ताव के मुताबिक ग्रामीण और शहरी उपभोक्ताओं को देने होंगे छह रुपये प्रति यूनिट
  • कुटीर ज्योति में 1.60 रुपये और ग्रामीण उपभोक्ताओं के लिए 1.25 रुपये प्रति यूनिट वृद्धि का प्रस्ताव
  • शहरी उपभोक्ताओं के लिए 50 पैसे प्रति यूनिट वृद्धि का है प्रस्ताव

Ranchi : नयी बिजली दर (2019-20) में पेंच फंस सकता है. झारखंड राज्य बिजली वितरण निगम ने नयी दर के लिए जो प्रस्ताव झारखंड राज्य विद्युत नियामक आयोग को सौंपा है, उसमें काफी आपत्तियां जतायी गयी हैं. आयोग को मिली आपत्तियों में कहा गया है कि ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में बिजली दर में समानता कहीं से भी उचित नहीं है. बढ़ी हुई दर का बोझ सीधे ग्रामीणों पर पड़ेगा. ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर भी इसका विपरीत असर होगा. अब नियामक आयोग इन आपत्तियों पर मंथन कर रहा है. आयोग अब इस आपत्ति पर झारखंड राज्य बिजली वितरण निगम से जवाब मांगेगा कि आखिर किन परिस्थितियों में ग्रामीण और शहरी दर में समानता लाने का प्रस्ताव दिया गया है.

नये प्रस्ताव के मुताबिक शहरी और ग्रामीण उपभोक्ताओं को देने होंगे छह रुपये प्रति यूनिट

hosp1

बिजली वितरण निगम द्वारा सौंपे गये प्रस्ताव के मुताबिक शहरी और ग्रामीण उपभोक्ताओं के लिए बिजली की दर छह रुपये प्रति यूनिट करने का प्रस्ताव है. वर्तमान में कुटीर ज्योति के लिए 4.40 रुपये प्रति यूनिट लिये जाते हैं. इसे बढ़ाकर 6.00 रुपये प्रति यूनिट करने का प्रस्ताव है. इस हिसाब से इस कैटेगरी में 1.60 रुपये प्रति यूनिट का अतिरिक्त वोझ पड़ेगा. ग्रामीण उपभोक्ताओं से वर्तमान में 4.75 रुपये प्रति यूनिट की दर से चार्ज लिया जाता है. इसे भी छह रुपये प्रति यूनिट करने का प्रस्ताव है. इससे ग्रामीण उपभोक्ताओं पर प्रति यूनिट 1.25 रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा. शहरी उपभोक्ताओं से वर्तमान में 5.50 रुपये प्रति यूनिट की दर से चार्ज लिया जाता है. इसे भी प्रति यूनिट छह रुपये करने का प्रस्ताव है. शहरी उपभोक्ताओं को प्रति यूनिट 50 पैसे अधिक देने होंगे.

नियामक आयोग को सौंपा है 21 हजार 629 करोड़ का प्रस्ताव

नियामक आयोग को सौंपे गये आवेदन में वितरण निगम ने पूरे घाटे को पाटने के लिए 21,629.49 करोड़ रुपये का प्रस्ताव दिया है. जबकि, 2019-20 के लिए 7,262 करोड़ रुपये के राजस्व का प्रस्ताव है. शेष 14,367.58 करोड़ रुपये को रेगुलेटरी एसेट बनाने का आग्रह किया है.

घरेलू

कैटेगरीवर्तमान दर (रुपये प्रति यूनिट)प्रस्तावित दर (रुपये प्रति यूनिट)
कुटीर ज्योति4.406.00
ग्रामीण4.756.00
शहरी5.506.00

कॉमर्शियल

कैटेगरीवर्तमान दर (रुपये प्रति यूनिट)प्रस्तावित दर (रुपये प्रति यूनिट)
ग्रामीण5.257.00
शहरी6.007.00

सिंचाई

कैटेगरीवर्तमान दर (रुपये प्रति यूनिट)प्रस्तावित दर (रुपये प्रति यूनिट)
सिंचाई व कृषि5.005.00

उद्योग

कैटेगरीवर्तमान दर (रुपये प्रति यूनिट)प्रस्तावित दर (रुपये प्रति यूनिट)
एलटी5.506.00
एचटी5.756.00
एचटी स्पेशल4.006.00

संस्थागत

कैटेगरीवर्तमान दर (रुपये प्रति यूनिट)प्रस्तावित दर (रुपये प्रति यूनिट)
स्ट्रीट लाइट6.006.50
रेलवे4.605.00
मिलिट्री सर्विस4.605.00
अन्य लाइसेंसी4.604.70

इसे भी पढ़ें- एडीजी ऑपरेशन आर के मल्लिक बने एडीजी प्रोविजन, नौ आइपीएस समेत 12 अफसरों का तबादला

इसे भी पढ़ें- डोरंडा बाजार में अब नहीं होगा स्थायी निर्माण, हाई कोर्ट के फैसले के बाद सरकार ने लिया निर्णय

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: