न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

क्रीड़ा भारती के अधिवेशन में खेल को नयी दिशा दी जायेगी : चेतन चौहान

102

Dhanbad : 28 दिसंबर से शुरू हो रहे क्रीड़ा भारती के तीन दिवसीय अधिवेशन में खेलों को नयी दिशा दी जायेगी. नौकरियों में खिलाड़ि‍यों का कोटा, खिलाड़ि‍यों को सुविधाएं, आर्थिक मदद समेत अनेक मुद्दो पर अधिवेशन में बहस होगी. उत्तर प्रदेश के मंत्री पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान ने क्रीड़ा भारती के अधिवेशन की पूर्व संध्या पर मीडिया से आयोजन स्थल राजकमल सरस्वती विद्या मंदिर में बात की.

अधिवेशन में पिछले तीन साल की खेल गतिविधियों का ब्यौरा देंगे

बताया कि क्रीड़ा भारती का अधिवेशन हर तीन साल में एक बार होता है. धनबाद में 28, 29, और 30 दिसंबर को होनेवाले अधिवेशन में क्रीड़ा भारती की देश भर की 450 इकाइयों के प्रतिनिधि भाग लेंगे. पूरे देश के 450 जिलों में क्रीड़ा भारती की इकाइयां चल रही है. अधिवेशन में भाग लेने के लिए कार्यकर्ता असम, अरुणाचल प्रदेश, तमिलनाडु, राजस्थान, पंजाब आदि से आये हैं. कार्यकर्ता अधिवेशन में पिछले तीन साल की खेल गतिविधियों का ब्यौरा देंगे.

झारखंड में खेल के क्षेत्र में विकास की असीम संभावनाएं

चौहान ने कहा कि हर सरकार, ब्योरोक्रेसी और खासकर खेल संस्थानों को खेल को प्राथमिकता देनी होगी. उन्होनें कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते चार वर्षों में फुटबॉल, हॉकी, एथलिट आदि में मेडल हासिल करने वाले हर खिलाड़ी को सम्मानित किया है. सरकार खेल को प्रोत्साहन दे रही है. अच्छे कोच, अच्छी सुविधाएं प्रदान की जा रही है. झारखंड में खेल के क्षेत्र में विकास की असीम संभावनाएं हैं. झारखंड में हॉकी काफी लोकप्रिय खेल रहा है. इस कारण हॉकी की राष्ट्रीय टीम में झारखंड के हॉकी खिलाड़ी अधिक रहे हैं. तीरंदाजी में भी झारखंड ने एक मुकाम पाया है.

पत्रकार वार्ता में चौहान के साथ मीडिया प्रभारी मिल्टन पार्थ सारथी प्रमुख रूप से मौजूद थे. कुछ पत्रकारों ने प्रेस वार्ता में झारखंड के खेल मंत्री अमर बाउरी की गैर मौजूदगी का भी सवाल उठाया.

ये लोग थे मौजूद

इससे पहले चेतन चौहान कार्यक्रम स्थल मेगा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स पहुंचे. उन्होंने सुरक्षा व्यवस्था, मंच व्यवस्था से लेकर सभी पहलुओं का गहनता से अवलोकन किया. साथ ही आयोजन समिति को आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिया. चौहान ने पूरे मेगा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का भ्रमण पूरी आयोजन टीम के साथ किया. उनके साथ उतराखंड के पूर्व खेल मंत्री सह क्रीड़ा भारती के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नारायण सिंह राणा, राष्ट्रीय महामंत्री राज चौधरी, राष्ट्रीय संरक्षक अनिल ओख, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष मिलिंद डांगे, प्रसन्न दास, सचिव संजय तिवारी, रामानंद चौधरी, चंद्रशेखर, अमरेश सिंह, पंकज सिन्हा, विशाल त्रिपाठी सहित आयोजन समिति के कई अन्य लोग भी थे.

इसे भी पढ़ें – कैग की रिपोर्ट से साबित होता है कंबल घोटाला, पर सरकार जांच के नाम पर कर रही लीपापोती, साल बीत गया, नहीं हुई कोई कार्रवाई

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: