Sports

#MaryKom ने विश्व चैम्पियनशिप के दौरान विरोध दर्ज करने के नियम पर सवाल उठाया

New Delhi: छह बार की विश्व चैम्पियन एमसी मेरी कॉम ने विश्व चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में मिली हार के बाद विरोध दर्ज करने के नियम पर सवाल उठाते हुए कहा कि इसके पीछे का तर्क उनकी समझ से परे है.

Jharkhand Rai

मेरी कॉम ने खेल मंत्रालय के सम्मान समारोह कार्यक्रम के इतर कहा, ‘‘ हमारे विरोध को इसलिए स्वीकार नहीं किया गया क्योंकि मैं 1-4 के फैसले से हारी थी. मुझे नहीं पता कि यह कैसा नियम है कि आप 1-4 से हारने के बाद विरोध नहीं दर्ज करा सकते.’’

इसे भी पढ़ेंः #Nobellaureate अभिजीत बनर्जी ने कहा,  राष्ट्रवाद गरीबी जैसे मुद्दों से ध्यान भटका देता है… 

विश्व चैम्पियनशिप में रिकार्ड आठवां और 51 किग्रा में पहला पदक जीतने वाली इस दिग्गज मुक्केबाज ने कहा, ‘‘अगर जीत के हकदार को हरा दिया जाए तो यह खेल के लिए अच्छा नहीं होगा. ’’

Samford

मेरी कॉम को तुर्की की बुसेनाज काकिरोग्लू से 1 – 4 से पराजय झेलनी पड़ी. भारतीय दल ने इस फैसले का रिव्यू मांगा लेकिन अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ की तकनीकी समिति ने उनकी अपील खारिज कर दी. नियमों के मुताबिक फैसले पर विरोध तभी दर्ज किया जा सकता है जब वह 3-2 या 3-1 का होगा.

इसे भी पढ़ेंः #PMModi की रैली में शख्स ने ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ पर उठाये सवाल, मंच की ओर फेंके पन्ने

उन्होंने कहा कि इस हार के बावजूद भी विश्व चैम्पियनशिप से उनका आत्मविश्वास बढ़ा है जिससे वह तोक्यो ओलंपिक में पदक जीत सकती है.

उन्होंने कहा, ‘‘ सेमीफाइनल में हार के बाद भी विश्व चैम्पियनशिप आगे की तैयारियों के लिए अच्छी रही. मैं पूरी तरह से फिट थी और 51 किग्रा में अच्छे लय में थी. इससे मेरा आत्मविश्वास बढ़ा है और मैं ओलंपिक में बेहतर कर सकती हूं.’’

इस मौके पर 48 किग्रा भार में रजत जीतने वाली मंजू रानी और कांस्य पदक जीतने वाली जमुना बोरो (54 किग्रा) तथा लवलीना बोरगोहेन (69 किलो) को भी सम्मानित किया गया.

इसे भी पढ़ेंः पिछले 10 महीनों में रिश्वत लेनेवाले 12 पुलिस अधिकारियों को ACB ने किया गिरफ्तार

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: