Sports

अवसाद से जूझ रहे खिलाड़ियों को डोनाल्डसन की सलाह, मोबाइल, सोशल मीडिया से दूर रहें

New Delhi : दुनियाभर के खिलाड़ियों में अवसाद की बढ़ती समस्या से निपटने के लिए दिग्गज बास्केटबाल खिलाड़ी जेम्स डोनाल्डसन ने सलाह दी है कि उन्हें मोबाइल फोन और सोशल मीडिया से दूर रहना चाहिए.

Jharkhand Rai

एनबीए में 14 सत्र के अलावा यूरोप के विभिन्न लीगों में खेलने डोनाल्डसन भी एक बार अवसाद की चपेट में थे और उन्होंने आत्महत्या करने के बारे में सोचा था. 62 साल का यह दिग्गज अब खिलाड़ियों की अवसाद की समस्या को अच्छे से समझता है.

इसे भी पढ़ेंः रांची एसडीओ ने आरपीएन सिंह के खिलाफ जारी किया शो कॉज, 48 घंटे में जवाब देने का निर्देश

ओलंपिक में कई स्वर्ण पदक जीत चुके इयान थोर्प और माइकल फेलेप्स जैसे चैम्पियन तैराक के अलावा एंड्रयू फ्लिंटफ और मार्क्स ट्रेस्कोथिक जैसे इंग्लैंड के क्रिकेटर अवसाद की समस्या से जूझ चुके हैं.

Samford

हाल ही में आस्ट्रेलिया के दिग्गज हरफनमौला खिलाड़ी ग्लेन मैक्सवेल ने मानसिक परेशानियों के कारण क्रिकेट से ब्रेक लिया था.

यहां महिलाओं के एक एनजीओ के कार्यक्रम में पहुंचे डोनाल्डसन से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘ खेला ऐसा पेशा है जहां आप से तनाव और काफी उम्मीदें होती है. खिलाड़ियों पर शीर्ष स्तर पर हमेशा अच्छा प्रदर्शन करने का दबाव होता है.’’

इसे भी पढ़ेंः #MaharastraVerict : #NCP सरकार बनाने की  तैयारी में…शिवसेना के साथ पक रही है खिचड़ी! सामना में शरद पवार की तारीफ

उन्होंने कहा, ‘‘ हम ऐसे समय में जी रहे है जहां सोशल मीडिया का काफी दखल होता है. इसके कारण खिलाड़ियों को पहले से कही ज्यादा आलोचना का सामना करना पड़ता है. प्रशंसकों की इस आलोचना से नकारात्मकता काफी बढ़ जाती है.’’

डोनाल्डसन पिछले साल व्यापार में घाटा होने और लंबे समय तक साथ रही महिला मित्र का साथ छूटने से वह अवसाद में आ गये थे. अवसाद इतना गंभीर था कि आपात स्थिति में उनके दिल की सर्जरी करानी पड़ी जो साढ़े 11 घंटे तक चली थी.

उन्होंने कहा, ‘‘ युवा खिलाड़ियों को मेरी यही सलाह होगी कि जीवन में एक उचित संतुलन रखें. कभी कभी अपने फोन को बंद कर सोशल मीडिया से दूर रहें. सच्चे और वास्तविक लोगों के साथ रहें जो अच्छे और बुरे दोनों समय में आपका साथ दें.’’

इसे भी पढ़ेंः #InfrastructureProjects : 355 परियोजनाओं की लागत 3.88 लाख करोड़ रुपये बढ़ी : रिपोर्ट

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: