न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

मुख्यमंत्री के गृहनगर में नया फरमान, अब टॉमी, शेरू और ब्लैकी का भी देना होगा टैक्स

गाय, बैल, घोड़ा, गधा, बकरी के पालने पर होगी टैक्स वसूली

855

Jamshedpur: जेएनएसी (जमशेदपुर अधिसूचित एरिया समिति) अब आपके लाडले टॉमी, शेरू और ब्लैकी पर टैक्स वसूलेगी. यानी जेएनएसी  मुख्यमंत्री रघुवर दास के गृहनगर में पालतू जानवरों का भी हिसाब-किताब रखेगी. साथ ही जानवर पालने वालों से टैक्स की वसूल करेगी. हालांकि  ये टैक्स मामूली होगा. जिसके जरिए जेएनएसी पालतू जानवरों की निगरानी का प्रबंधन करेगी. साथ ही  पालतू जानवरों को टीका लगा या नहीं इसका भी ख्याल रखेगी. जिनमें खासकर पालतू कुत्तों को रेबीज का इंजेक्शन लगाया गया या नहीं, इसका भी पूरा ब्योरा रखेगी. अब इसके लिये शहर के लोगों को अपने पालतू जानवरों को जेएनएसी में रजिस्टर्ड कराना होगा. हालांकि रजिस्ट्रेशन की सुविधा के लिये जेएनएसी ऑनलाइन पोर्टल तैयार करा रही है.

eidbanner

इसे भी पढ़ें – यूथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, आंसूगैस के गोले दागे, कई कांग्रेसी घायल

कितना टैक्स वसूली होगी इसपर मंथन चल रहा है

रजिस्टर्ड होने वाले पालतू जानवरों में बकरी, घोड़ा, कुत्ता, गाय, बैल, भैंस, ऊंट, हाथी शामिल हैं. वहीं जानवरों को पालने वाले से जेएनएसी कितना टैक्स वसूलेगी, अभी इसपर मंथन चल रहा है. जमशेदपुर अक्षेस के बायलॉज में भी इसका जिक्र है कि अक्षेस को अपने इलाके के पालतू जानवरों का पंजीकरण करना है. इससे अक्षेस को ये पता रहेगा कि उसके इलाके में कितने पालतू जानवर हैं. लेकिन आजकल ज्यादातर लोग कुत्ता ही पालते हैं. कभी-कभी लोग अपने पालतू कुत्तों को रेबीज इंजेक्शन भी नहीं लगवाते हैं. इससे इन कुत्तों के काटने से शहर में रेबीज फैलने की आशंका बनी रहती है. जेएनएसी अपने रजिस्टर्ड पालतू कुत्तों का पूरा ब्योरा रखेगी कि उसे इंजेक्शन लगाया गया है या नहीं.

Related Posts

दर्द-ए-पारा शिक्षक: बूढ़ी मां घर चलाने के लिए चुनती है इमली और लाह के बीज, दूध और सब्जियां तो सपने जैसा

मानदेय से मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति की जाती है, इच्छाएं पूरी नहीं होती

इसे भी पढ़ें – पहले तो फर्जी कंपनी बना ठग ली रकम, जेल से निकलते ही फिर बना ली नयी कंपनी   

जेएनएसी के कुत्तों के रेबीज का टीका लगाने का ब्योरा रखने का फैसला तो तारीफ के काबिल है. लेकिन जानवरों के पालने पर उनसे टैक्स की वसूली लोगों को नहीं पच रही. चूंकि ऐसे ही लोग जीएसटी के सदमे से उबर नहीं पाये हैं, उपर से अब जानवरों पर भी टैक्स देने की बात से घबराये हुए हैं .

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: