न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोहरदगा : कभी नहीं लिया ऋण, फिर भी बन गए बैंक के कर्जदार

88

Lohardaga : लोहरदगा में 25 किसानों के साथ कुछ ऐसा ही हुआ है. यह सभी किसान किस्को प्रखंड के बड़चोरगांई गांव के रहने वाले हैं. एक सप्ताह पहले बैंक की ओर से लोक अदालत में आकर ऋण का समझौता करने को लेकर नोटिस जब किसानों को मिला तो उनके होश उड़ गए. किसानों को समझ में नहीं आया कि आखिर बैंक ने उन्हें नोटिस किस चीज का भेज दिया है. जबकि वे तो ना कभी बैंक गए हैं और ना ही कभी ऋण ही लिया है. यहां तक कि जिस बैंक का नोटिस है उस बैंक में उनका खाता भी नहीं है. ग्रामीण परेशान होकर अब बैंक के चक्कर लगा रहे हैं.

शाखा प्रबंधक रोहित कुजूर मुंह खोलने को तैयार नहीं

यह सारा मामला केनरा बैंक से जुड़ा हुआ है. किसान परेशान है और बैंक उनकी सुनने को तैयार नहीं है. ग्रामीण कहते हैं कि जब हमने ऋण लिया ही नहीं तो भला चुकाएंगे कैसे. हम गरीब किसान आखिर इतने पैसे लाएंगे कहां से. जाने किसने उनके साथ धोखाधड़ी की है. लेकिन अब वे इस धोखाधड़ी के चक्कर में पीस रहे हैं. इस मामले में स्थानीय शाखा प्रबंधक रोहित कुजूर मुंह खोलने को तैयार नहीं है. वह कैमरे के सामने आ भी नहीं रहे हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: