JharkhandLead NewsRanchi

नेटवर्क नहीं बनेगा पढाई में बाधक, राज्य के सुदूर इलाकों में मोबाइल क्लास से होगा ज्ञानवर्धन

Ranchi : राज्य में कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए सरकारी स्कूल लगभग 20 दिनों से बंद हैं. अब तक इन स्कूलों में पढने वाले बच्चे व्हाट्स एप ग्रुप और दूरदर्शन में प्रसारित होने वाले कार्यक्रम पर निर्भर थे. पर बीते दो साल के इन वर्चुअल पढाई के अनुभव बता रहे थे कि इसका लाभ केवल 30 फीसदी स्टूडेंट्स को ही मिल पा रहा था. बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स इससे वंचित हो जा रहे थे. इसकी कई वजह सामने आयी थी. जिसमें से नेटवर्क की समस्या बड़ी समस्या थी. इस परेशानी का हल निकालते हुए अब राज्य शिक्षा परियोजना मोबाइल क्लास चलाने को लेकर तैयारी कर रहा है. इस बाबत सभी जिला उपायुक्तों को परियोजना की ओर से पत्र भेजा गया है.

इसे भी पढ़ें : 18 राज्य व एक केंद्र शासित प्रदेश में बना पुलिस एक्ट, झारखंड में अभी तक कवायद नहीं

7वीं से 12वीं तक के बच्चों को विशेष लाभ

झारखंड एकेडमिक काउंसिल (जैक) द्वारा प्रस्तावित फरवरी माह में ली जाने वाली 8वीं, 10वीं बोर्ड और 12वीं की परीक्षा के साथ कक्षा एक से 7वीं, 9वीं और 11वीं की वार्षिक परीक्षा की तैयारी के लिए दूर-दराज के ग्रामीण इलाकों में मोबाइल कक्षा संचालित की जायेगी. इसके लिए छोटे वाहनों पर LED स्क्रीन लगाकर क्लास चलाने और विद्यार्थियों के परीक्षा की तैयारी कराने का निर्देश झारखंड शिक्षा परियोजना ने दिया है. एलईडी स्क्रीन पर पठनीय सामग्रियों को प्रदर्शित करने और शैक्षणिक गतिविधियों के संचालन के लिए शिक्षक, अभिभावक, विद्यालय प्रबंध समिति के सदस्य और स्वयं सेवकों तथा विभिन्न स्वयंसेवी संगठनों की मदद लेने को कहा है. क्लास छह से 12वीं के लिए गोड्डा ज्ञानोदय मोबाइल मॉड्यूल का उपयोग करने का निर्देश दिया है. इसके साथ ही मोबाइल कक्षा में विद्यार्थियों को सभी विषयों के डिजिटल कंटेंट उपलब्ध कराने, माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक कक्षाओं के शिक्षकों के सहयोग से मासिक रूटीन के आधार पर ऑनलाइन कक्षा कराने को कहा है. बताते चलें कि गोड्डा का ज्ञानोदय मोबाइल मॉड्यूल को कोर 24वें राष्ट्रीय ई-गवर्नेस अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है.

इसे भी पढ़ें : कल से रिम्स में नई एजेंसी चलाएगी जन औषधि केंद्र, मिलेगी सस्ती दवा

Advt

Related Articles

Back to top button