Lead NewsNational

दिल्ली में इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति की जगह नेताजी सुभाष की प्रतिमा लगेगी, पीएम मोदी ने ट्वीट कर दी जानकारी

New Delhi: दिल्ली स्थित इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति की जगह नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति लगाई जाएगी. अमर जवान ज्योति को स्थानांतरित करने पर हो रहे विवाद के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है.

पीएम मोदी ने ट्वीट में लिखा है कि ऐसे समय जब पूरा देश नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती मना रहा है, मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि ग्रेनाइट से बनी उनकी भव्य प्रतिमा इंडिया गेट पर स्थापित की जाएगी. यह प्रतिमा नेताजी के प्रति भारत के ऋणी होने का प्रतीक होगा. पीएम ने आगे कहा कि जब तक नेताजी बोस की भव्य प्रतिमा पूरी नहीं हो जाती, तब तक उनकी होलोग्राम प्रतिमा उसी स्थान पर मौजूद रहेगी. 23 जनवरी को नेताजी की जयंती पर होलोग्राम प्रतिमा का पीएम मोदी अनावरण करेंगे.

इसे भी पढ़ेंः जज उत्तम आनंद मौत मामला : हाईकोर्ट ने कहा सीबीआई सही जांच करे, आरोपियों को बचाने की कोशिश ना करें

मालूम हो कि आज साढ़े तीन बजे इंडिया गेट से अमर जवान ज्योति को स्थानांतरित कर समीप ही बने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जल रही ज्योति में विलय किया जाएगा. इसे लेकर सियासी बवाल पैदा हो गया है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सरकार पर निशाना साधा तो सरकार ने अपना पक्ष रखा. कुछ पूर्व सैनिकों ने भी विरोध जताया है.

राहुल गांधी ने साधा निशाना

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा- ‘बहुत दुख की बात है कि हमारे वीर जवानों के लिए जो अमर ज्योति जलती थी, उसे आज बुझा दिया जाएगा. कुछ लोग देशप्रेम व बलिदान नहीं समझ सकते- कोई बात नहीं… हम अपने सैनिकों के लिए अमर जवान ज्योति एक बार फिर जलाएंगे.

इसे भी पढ़ेंः मृत दरोगा लालजी यादव के भाई ने दायर की जनहित याचिका- मंत्री, एसपी समेत अन्य अधिकारियों की संपत्ति जांच की मांग

देश में एक युद्ध स्मारक होना चाहिए

1971 के युद्ध के नायकों में शामिल रहे रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल जेबीएस यादव ने कहा है कि जोत के विलय पर राजनीति नहीं होना चाहिए. केंद्र के हर फैसले के विरोध की प्रवृत्ति बन गई है। अमर जवान जोत का युद्ध स्मारक की जोत में विलय होना चाहिए. देश में सिर्फ एक युद्ध स्मारक होना चाहिए.

भारत-पाक युद्ध में शहीद सैनिकों की याद में जलती है ज्योति

अमर जवान ज्योति की स्थापना उन भारतीय सैनिकों की याद में की गई थी जो 1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए थे. इस युद्ध में भारत की विजय हुई थी. तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 26 जनवरी 1972 को अमर जवान ज्योति का उद्घाटन किया था. तब से अनवरत जोत जल रही है.

इसे भी पढ़ेंः पटना में भाई के हत्यारे को मां-पिता की गवाही पर उम्रकैद की सजा

Advt

Related Articles

Back to top button