न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नेपाल में नये भारतीय करेंसी पर प्रतिबंध, 100 रुपये तक का नोट ही होगा वैध

73

Kathmandu: नेपाल की सरकार ने देश में भारतीय मुद्रा पर प्रतिबंध लगाया है. काठमांडू पोस्ट में छपी खबर के मुताबिक 100 रुपये से बड़े नोट अब नेपाल में मान्य नहीं होंगे. नेपाल सरकार ने भारतीय मुद्रा को बैन करने का ये आदेश तत्काल प्रभाव से लागू किया है. इस फैसले से जहां भारत और नेपाल के सीमावर्ती क्षेत्रों की जनता परेशान हैं. वही दोनों देशों के रिश्ते में तल्खी आ सकती है.

200,500,2000 के नोट अब नहीं वैध

नेपाल सरकार के प्रवक्ता और सूचना और संवाद मंत्री गोकुल प्रसाद बसकोटा ने गुरुवार रात इस बात की पुष्टि की. उन्होंने कहा कि लोग भारतीय मुद्रा रखने से बचें क्योंकि अब तक सरकार ने 200, 500 और 2000 रुपये के नए भारतीय नोटों की वैधता खत्म कर दी है. सिर्फ 100 रुपये और उससे छोटी भारतीय मुद्रा नेपाल में स्वीकार्य है.

बताया जाता है कि 2016 में भारत में हुई नोटबंदी के बाद नेपाल में अब भी पुरानी भारतीय मुद्रा के अरबों रुपए फंसे हुए हैं. वही नेपाल में फिलहाल 200 और 500 रुपये के इंडियन करेंसी का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल हो रहा था. दरअसल, भारत में नोटबंदी के बाद लाये गये नए नोट को लेकर नेपाल सरकार ने अबतक कोई निर्णय नहीं लिया गया था और ऐसे में नेपाल में भारतीय नोट उसी प्रकार चलन में थे. अब अचानक से सिर्फ सौ के नोट तक ही नेपाल में वैध होने से भारत में काम कर रहे नेपाली मजदूरों के साथ भारत से नेपाल जाने वाले निम्न और मध्य वर्ग के ढेरों पर्यटक प्रभावित होंगे.

करेंसी प्रतिबंध से बढ़ेगी परेशानी

नेपाल सरकार द्वारा 100 रुपये से बड़ी करेंसी बैन करने के बाद भारती और नेपाल दोनों के बाजार प्रभावित होंगे. भारत में जहां नेपाल के मजदूर बड़ी संख्या में हैं. वही भारत में भी नेपाली ग्राहक बहुत हैं. नेपाली ग्राहक भी भारतीय करेंसी मांगते हैं. वही नेपाल के सौ रुपए भारत के साठ रुपए के बराबर होते हैं. ऐसे में नेपाल में भारतीय मुद्रा में पांच सौ और दो हजार रुपए के नोटों का चलन अधिक है. लेकिन अब इस फैसले से लेनदेन को लेकर लोगों की परेशानी बढ़ने वाली है.

इसे भी पढ़ेंःजम्मू-कश्मीरः पुलवामा में मोस्ट वॉन्टेड जहूर समेत तीन आतंकी ढेर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: