DhanbadJharkhandLead NewsNEWS

लापरवाही पड़ सकती है भारी: कॉलेज बंद फिर भी पहुंच रही लड़कियां, मास्क से इनको पेरशानी

DHANBAD: कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने देश में जमकर कहर बरपाया है. संक्रमण की वजह से लाखों लोगों की जान चली गई, बावजूद इसके लोग संभल नहीं रहे हैं, संक्रमण की रफ्तार कम होते ही लोगों की लापरवाही बढ़ गई है, अनलॉक पक्रिया शुरु होते ही लोग बिना मास्क लगाए अपने घरों से बाहर निकल रहे हैं. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं हो रहा है ऐसे में तीसरी लहर की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता.

कोरोना संक्रमण की तिसरी लहर से निपटने के लिए सरकार अभी से तैयारी कर रही है, शिक्षण संस्थान बंद रखे गए हैं, लेकिन धनबाद के श्री श्री लक्ष्मी नारायण ट्रस्ट महिला महाविद्यालय (SSLNT) में छात्राएं पहुंच रही हैं. इन लड़कियों ने ना तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया ना ही मास्क लगाना उचित समझा. कॉलेज गेट के पास दर्जनों लड़कियां इकट्ठे लेकिन इनमें से कुछ ही लड़कियां मास्क लगाई हुईं थी. वहीं कॉलेज के अंदर भी लड़कियों को बिना मास्क लगाए देखा गया. यही लापरवाही भारी पड़ सकती है जिसके लिए पुलिस प्रशासन को विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

कोरोना की पहली लहर और दूसरी लहर को पूरा देश ने देखा है, किस तरह कोरोना ने तबाही मचाया. इसलिए आज भी हम सभी को सावधान रहने की जरुरत है. तीसरी लहर में बच्चों में अधिक खतरा होने की बात कही जा रही है अगर कॉलेज या स्कूल खुली नहीं है तो फिर बच्चे कॉलेज में क्यों आ रहे हैं, सभी ऑनलाइन व्यवस्था के बावजूद कॉलेज आना एक बड़ा सवाल खड़ा करता है.

इसे भी पढ़ें : जानें दिनेश कार्तिक ने क्या सेक्सिस्ट कमेंट किया जो कहना पड़ा ‘दोबारा नहीं होगी गलती’

वहीं धनबाद एसएसएलएनटी महिला कॉलेज की प्रिंसिपल शर्मिला रानी ने का कहना है कि कॉलेज के अंदर की जिम्मेवारी कॉलेज की है, कॉलेज के बाहर बच्चियां रहती है तो उसकी जिम्मेवारी कॉलेज की नहीं है. साथ ही उन्होंने कहा कोरोना गाइडलाइन का पालन सभी को करना चाहिए और दूसरे को भी पालन करने को कहना चाहिए.

Related Articles

Back to top button