न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

महिला संबंधित रिपोर्टिंग में संवेदनशीलता जरूरी: रेशमा सिंह

40

Ranchi: समाज में मीडिया की खबरों का असर शुरू से देखा जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि संवेदनशीलता के साथ खबरों को पेश किया जाये. उक्त बातें नारीवादी संगठन एसोसिएशन फॉर एडवोकेसी एंड लीगल इनिशिएटिव (आली) की ओर से आयोजित परिचर्चा में रेशमा सिंह ने कहा. रेशमा आली की झारखंड राज्य प्रमुख हैं. अपने विचार रखते हुए उन्होंने कहा कि समाज में आने वाले बदलाव में मीडिया की अहम भूमिका रही है. इसलिए इसमें संवेदनशीलता जरूरी है. ताकि, समाज में इसका सकारात्मक प्रभाव पड़े. उन्होंने कहा कि  विशेषकर महिलाओं से सबंधित मामलों में संवेदनशीलता जरूरी है. परिचर्चा का विषय ‘समाज के चौथे स्तंभ के साथ मानवाधिकार महिलाएं एवं बाल अधिकार को लेकर संवेदनशीलता’ रखा गया था.

महिलाओं की गोपनीयता रखा जाये

लखनऊ से आयी शुभांगी सिंह ने कहा कि महिलाओं से संबधित मुद्दों पर रिर्पोटिंग संवेदनशीलता के साथ होनी चाहिये. जो बहुत जरूरी है. उन्होंने कहा कि महिलाओं पर कई बार रिर्पोटिंग का काफी प्रभाव पड़ता है. ऐसे में जरूरी है कि महिला की गोपनीयता का ख्याल रखा जाये. उन्होंने कहा कि मीडिया का प्रभाव समाज में है, इसलिए सकारात्मक बदलाव के लिए काम किया जाना चाहिये.

नकारात्मक प्रभाव का रखें ध्यान

शुभांगी ने कहा कि महिलाओं और बच्चों के साथ बलात्कार और यौन हिंसा जैसे मामलों में वृद्धि हुई है, तो वहीं दूसरी तरफ इन घटनाओं का अंसवेदनशील रिपोर्टिंग से पीड़ित व्यक्ति पर नकरात्मक प्रभाव पड़ता है. उन्होंने कहा कि महिला की पहचान का ध्यान रखना चाहिये, साथ ही जरूरी है कि रिर्पोटिंग ऐसी हो महिला को भविष्य में भी परेशानी न हो. मौके पर #Metoo मुहिम पर भी चर्चा की गयी. इस संगोष्‍ठी में बबली, अंचल, हिमालिका समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें: बोकारो डीसी के पीए की गिरफ्तारीः कम्प्यूटर ऑपरेटर को नाजिर बनाना गंभीर, बनती है डीसी की भी जिम्मेदारीः सरयू राय

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: