न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एनडीआरएफ की टीम ने कांके डैम में डूबे बच्चे के शव को निकाला

113

Ranchi : कांके डैम में डूबे मूक-बधिर बच्चे शुभम कुमार के शव को एनडीआरएफ की टीम ने रविवार की रात को निकाल लिया. लोगों का कहना है कि अगर एनडीआरएफ की टीम को पहले सूचना दी गयी होती, तो बच्चे का शव पहले ही निकाला जा सकता था. एनडीआरएफ की टीम को शाम लगभग 5.30 बजे सूचना दी गयी, जिसके बाद टीम घटनास्थल पर पहुंची. हालांकि, तब तक काफी अंधेरा हो चुका था, फिर भी अधिकारियों के निर्देशानुसार एनडीआरएफ के जवान बच्चे का शव ढूंढने के लिए डैम में उतरे और सफलता हासिल हुई. बच्चे का शव बरामद कर लिया गया. बच्चे के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए रिम्स भेज दिया गया.

एनडीआरएफ की टीम ने कांके डैम में डूबे बच्चे के शव को निकाला

इसे भी पढ़ें- कांके डैम में डूबने से बच्चे की मौत, शव निकालने पुलिस नहीं पहुंची, तो लोगों ने टायर जलाकर पिस्का…

लोगों ने किया था पिस्का मोड़ को जाम

कांके डैम में रविवार को दिन के 11 बजे 11 वर्षीय मूक बधिर-बच्चे शुभम कुमार के डूबने से हुई मौत हो गई थी . उसके बाद स्थानीय लोगों ने प्रशासन के ऊपर आरोप लगाया कि बच्चे के डूबने के 5 घंटे के बाद भी प्रशासन मौके पर नहीं पहुंचा जिसके विरोध में स्थानीय लोगों ने पिस्का मोड चौक पर टायर जला कर सड़क को जाम कर दिया था. जिसके चलते दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गई थी.

इसे भी पढ़ें- पार्षद पर जानलेवा हमले की पार्षद समूह ने की निंदा, कहा- यह उचित नहीं

क्या था मामला

लक्ष्मी नगर के राजीव कुमार का मूक-बधिर पुत्र शुभम कुमार रविवार को दिन के 11 बजे कांके डैम में डूब गया था, जिससे उसकी मौत हो गयी. इसके बाद स्थानीय लोगों ने शव को निकालने के लिए स्थानीय पुलिस को सूचित किया, लेकिन पुलिस पांच घंटे के बाद भी मौके पर नहीं पहुंची और न ही गोताखोर को पुलिस द्वारा भेजा गया था. इससे स्थानीय लोगों ने आक्रोशित होकर शाम में पिस्का मोड़ चौक पर टायर जलाकर रोड को जाम कर दिया था.

इसे भी पढ़ें- डीसी के आदेश के बावजूद शहर के अधिकतर पंडालों में नहीं लगा है फायर फाइटिंग सिस्टम

पैर फिसलने से डैम में गिरा था शुभम

भम का पैर डैम के किनारे फिसल गया था, जिसके कारण वह गहरे पानी में चला गया. उसके बाद स्थानीय लोगों ने अपने स्तर से शव की खोजबीन की, लेकिन शव नहीं मिल पाया, जिसके बाद लोगों ने पुलिस को सूचना दी थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: