न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

21 साल बाद आज फुटबॉल के मैदान में भिड़ेंगे भारत और चीन

हाल की खराब फार्म के बावजूद घरेलू टीम जीत की प्रबल दावेदार होगी।

73

Suzhou (China) : भारतीय फुटबॉल टीम 21 साल के बाद शनिवार को चीन के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय मैत्री मैच खेलेगी जिसमें हाल की खराब फार्म के बावजूद घरेलू टीम जीत की प्रबल दावेदार होगी.

भारतीय टीम चीन में पहली बार अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रही है, हालांकि सीनियर टीमें बीते समय में 17 बार एक दूसरे से भिड़ चुकी हैं. चीन सात बार भारत में खेला था, ये सभी मैच आमंत्रण टूर्नामेंट नेहरू कप में हुए थे.

इसे भी पढ़ें : पैरा एशियाई खेल : भारत को पांच स्वर्ण पदक, शारीरिक रूप से अक्षम खिलाड़ियों ने दिखाया दम

भारत को 17 मुकाबलों में से एक में भी जीत नहीं मिली जबकि चीन ने 12 मौकों पर फतह हासिल की. पांच मैच ड्रा रहे थे. भारत और चीन की सीनियर टीमें पिछली बार 1997 नेहरू कप में कोच्चि में एक दूसरे से भिड़ीं थी जिसमें रेड ड्रैगन्स ने 2-1 से जीत दर्ज की थी.

एशिया में चीन लगातार शीर्ष 10 में

भारतीय टीम एक भी फीफा विश्व कप में जगह नहीं बना सकी है जबकि चीन ने 2002 में ऐसा किया था. जिसमें वह अपने सभी तीनों मैच गंवाकर ग्रुप चरण से बाहर हो गयी थी.

वैश्विक मंच पर चीन का इतना दबदबा नहीं है लेकिन एशिया में वह मजबूत फुटबॉल देशों में शुमार रहा है. एशिया में टीम लगातार शीर्ष 10 में और विश्व रैंकिंग में शीर्ष 100 में शामिल रहती है.

इसे भी पढ़ें : योगदा सत्संग कॉलेज में विद्यार्थियों ने जमकर किया हंगामा

अभी चीन फीफा रैंकिंग में 76वें और एशिया में सातवें स्थान पर काबिज है.

एशिया में 15वें स्थान पर शामिल है भारत

palamu_12

चीन एशियाई कप में 11 बार खेल चुकी है जो महाद्वीपीय देशों का शीर्ष टूर्नामेंट है और इसमें वह दो बार उप विजेता और कई बार तीसरे स्थान पर रह चुकी है.

वहीं दूसरी ओर भारत एशिया कप में सिर्फ तीन बार (1964 में उप विजेता, 1984 और 2011 में) खेला है और हाल में उसने लंबे समय के बाद फीफा रैंकिंग में शीर्ष 100 में जगह बनायी. देश की टीम अभी फीफा रैंकिंग में 97वें और एशिया में 15वें स्थान पर शामिल है.

इसे भी पढ़ें : एएमयू : हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी के शोकसभा मामले में कश्मीरी छात्रों पर देशद्रोह का मुकदमा

भारत के लिये चीन से खेलना साहसिक कदम है क्योंकि एशियाई कप या विश्व कप क्वालीफायर को छोड़ दें तो टीम हाल के दिनों में महाद्वीप की शीर्ष टीम के खिलाफ नहीं खेली है.

सकारात्मक पहलू ढूंढने का प्रयास करेंगे

यह मैच दोनों टीमों के बीच फीफा अंतरराष्ट्रीय मैत्री मैचों की विंडो के समय के दौरान खेला जायेगा. जो अगले साल जनवरी में एएफसी एशिया कप की तैयारियों के लिये अहमियत रखता है। इससे भारत की प्रगति का सही अंदाजा लगेगा.

इसे भी पढ़ें : कोयले से लदी बोगी में लगी आग, ढुलाई व्‍यवस्‍था पर उठे सवाल

भारतीय कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन ने कहा, हम पूरी तरह से वाकिफ हैं कि चीन इस क्षेत्र की बड़ी टीम है. उनकी टीम काफी मजबूत होगी. वे आक्रामक फुटबॉल खेलना चाहेंगे और गेंद पर भी कब्जा रखना चाहेंगे. हम इस मैच में जीत के इरादे से उतरेंगे. लेकिन अगर हम हारते भी हैं तो भी हम सकारात्मक पहलू ढूंढने का प्रयास करेंगे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: