DhanbadJharkhand

धनबाद: सिंह मेंशन पर 40 करोड़ की गाड़ियों की लूट का आरोप

Dhanbad : हैदराबाद की कंपनी साई श्री इंजीनियर प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ राजा गोपाल राजू ने सिंह मेंशन और मनीष सिंह उर्फ सिद्धार्थ गौतम पर गंभीर आरोप लगाया गया है.

Sanjeevani

राजा गोपाल राजू ने मनीष सिंह के अलावे शैलेन्द्र सिंह उर्फ छोटू सिंह, सतेंद्र कुमार सिंह, संतोष कुमार सिंह समेत अन्य दस अज्ञात लोगों पर कंपनी की 53 गाड़ियां लूटने का आरोप लगाया है. इसे लेकर गुरुवार को ऑनलाइन FIR भी दर्ज करवाया गया है. साथ ही जिला प्रशासन और राज्य सरकार से मदद भी मांगी है.

MDLM

गांधी सेवा सदन में प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर उन्होंने बताया 53 गाड़ियों की कीमत करीब 35 से 40 करोड़ रु है. स्थानीय पुलिस की मदद से 53 में चार गाड़ियां भूली बी ब्लॉक से रिकवर हुयी है.

जबकि शेष गाड़ियों की बरामदगी अबतक नहीं हुयी है. उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में ही अपनी शर्ट उतारते हुए यह कहा कि उन्हें सिंह मेंशन के सिद्धार्थ गौतम ने लूट लिया है.

इसे ही पढ़ें :Big Bazaar के मालिक किशोर बियानी और फ्यूचर ग्रुप की संपत्तियां कुर्क करने का आदेश

मामले को लेकर राजा गोपाल राजू ने बताया कि वर्ष 2012 -14 में बीसीसीएल के द्वारा साई श्री इंजीनियर प्राइवेट लिमिटेड को लोदना क्षेत्र में 247 करोड़ का खनन कार्य करने दिया गया था. कंपनी खनन कार्य में लगने वाली 53 गाड़ियों की खरीद के बाद गाड़ियों को खनन परियोजना में लगा दिया.

नवंबर 2016 में जगह की अनुपलब्धता को देखते हुए बीसीसीएल ने खनन क्षेत्र के आसपास के गांव में रहने वाले लोगों को विस्थापित करने का हवाला देकर काम रुकवा दिया.

इसी बीच कंपनी सभी गाड़ियों को अपने कैंप में सुरक्षित रखकर वापस हैदराबाद लौट गए. इसके बाद बीसीसीएल ने कंपनी के कार्य को फ़ॉर क्लोज करते हुए काम बंद करने का आदेश दे दिया.

27 नवंबर 2017 को कंपनी के लोग जब वापस झरिया के लोदना स्थित अपने कैंप पर पहुँचे तो पाया सभी 53 गाड़ियां कैंप से गायब थी. अपने स्तर से जांच पड़ताल के बाद भी कुछ पता नहीं चल पाया. लगातार 4 सालों के खोजबीन के पश्चात जनवरी 2021 में लूटी गई गाड़ियों के भूली बी ब्लाक में छुपाकर रखने की जानकारी मिली.

इसे ही पढ़ें :झारखंड प्रशासनिक सेवा के 32 अधिकारियों का हुआ ट्रांसफर

सिटी एसपी को मामले से अवगत कराने के बाद सिंदरी डीएसपी के नेतृत्व में टीम गठित हुयी. टीम ने उक्त ठिकाने पर छापा मारा. छापामारी के दौरान उक्त ठिकाने से कंपनी की कई गाड़ियां बरामद हुयी. कंपनी की गाड़ियों के नंम्बर मिलान से पांच गाड़ियां कंपनी की पाई गई. अन्य शेष गाड़ियों के नम्बर प्लेट चेचिस नम्बर के साथ छेड़छाड़ पाया गया.

पूछताछ में सतेंद्र सिंह , संतोष सिंह ने सभी गाड़ियों को अपने संरक्षण में बताया. यह भी कहा गया कि मनीष सिंह के आदेश पर शैलेन्द्र सिंह ने उक्त गाड़ियों को रखवाया है.

राजा गोपाल राजू ने अपने बयान में यह स्पष्ट कहा कि छापामारी करने गई पुलिस के समक्ष ही सतेंद्र सिंह , संतोष सिंह ने धमकी भरे लहजे में कहा सभी गाड़ियां सिंह मेंशन की है. गाड़ियों की खोजबीन करना छोड़ दे वरना दीवार पर चिपका दिए जाओगें.

इसे ही पढ़ें :गुमला नरसंहार मामले में सरकार को हाइकोर्ट ने फिर दिया आठ अप्रैल तक का समय

Related Articles

Back to top button