JharkhandKhas-KhabarRanchi

जंगल छोड़ शहरों में पनाह ले रहे नक्सली, उसी शहरी नेटवर्क को तोड़ने में जुटी झारखंड पुलिस

विज्ञापन

Ranchi :  नक्सलियों के शहरी नेटवर्क को तोड़ने में झारखंड पुलिस जुटी हुई है. झारखंड पुलिस ने नक्सलियों के शहरी नेटवर्क के खिलाफ लगातार कार्रवाई करते हुए एक-एक कर कई नक्सल सहयोगियों को धर दबोचा है. इससे उनके बड़े शहरी नेटवर्क को ध्वस्त करने में काफी सफलता भी मिली है. इसके बाद से नक्सली बैकफुट पर नजर आ रहे हैं.

गौरतलब है कि राज्य के नक्सली संगठन अब जंगलों तक सीमित नहीं हैं. बल्कि अब वो झारखंड के शहरी इलाकों में भी अपने पांव पसार रहे हैं. जंगलों में रहने वाले नक्सली अब राजधानी रांची सहित कई जिलों के शहरी इलाकों में डेरा जमा रहे हैं.

इतना ही नहीं शहरों में नक्सलियों को पैर जमाने के लिए अर्बन नक्सली खुलकर इनकी मदद कर रहे हैं. जिसका खुलासा हाल ही में हुई कुछ गिरफ्तारियों से हुआ है. जाहिर है कि ये राज्य की सुरक्षा के लिए सबसे बड़ी चिंता का विषय है. ऐसे में शहरों में छिपकर रहने वाले नक्सलियों के खिलाफ झारखंड पुलिस की कार्रवाई लगातार जारी है.

इसे भी पढ़ें –शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने मैट्रिक और इंटर टॉपर्स को दी ऑल्टो कार

अलग-अलग संगठन के दर्जनों नक्सली गिरफ्तार हुए हैं

नक्सलियों की धड़पकड़ के लिए पुलिस और सुरक्षाबलों के जवान जंगलों में सर्च अभियान चला रहे हैं. नक्सली राजधानी रांची सहित कई जिलों में शरण लेकर बड़े आराम से जीवन बिता रहे हैं. ये लोग अपनी पहचान छिपाकर शहर के अलग-अलग इलाकों में रह रहे हैं. कुछ नक्सली मजदूरी की आड़ ले रहे हैं, तो किसी ने अपना नाम बदल लिया है. नक्सली जंगलों में रह कर पुलिस को तो चुनौती दे ही रहे हैं. साथ ही साथ अब शहर में भी रहकर अपना संगठन चला रहे हैं.

रांची के बाहरी इलाके में नाम बदलकर कई नक्सली और नक्सली समर्थक रह रहे हैं. पिछले एक वर्ष के दौरान कई शहरों से अलग-अलग संगठन के दर्जनों नक्सली गिरफ्तार हुए हैं. खूंटी, सिमडेगा, पलामू, चतरा, लातेहार, सरायकेला-खरसावां, चक्रधरपुर, लोहरदगा समेत अन्य जिलों के नक्सलियों ने रांची को अपना ठिकाना बनाया है.

यह नक्सली और नक्सली समर्थक एक तरफ जहां व्यापारियों और ठेकेदारों से लेवी वसूलने का काम करते हैं. वहीं समर्थक अपने नक्सली संगठनों को पुलिस की गतिविधियों की भी जानकारी देते रहते हैं.

adv

मकान मालिक को दिये गये हैं सख्त आदेश

पहचान छिपाकर नक्सलियों और नक्सल समर्थक के रहने की बात सामने आने पर रांची पुलिस समेत राज्य के अन्य जिलों की पुलिस के द्वारा मकान मालिक को कड़े निर्देश दिये हैं. मकान मालिक को स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि जिन्हें वह घर किराये पर दे रहे हैं. उनके वोटर आइडी, गारंटर समेत कई अन्य डॉक्यूमेंट की जांच कर लें. इसके अलावा स्थानीय लोग जो पिछले कई सालों से उन्हें जानते हैं, उनसे भी जानकारी ले लें.

इतना ही नहीं, किरायेदार का विस्तृत विवरण थाने में जमा करें. अगर कोई मकान मालिक इसका पालन नहीं करता है और उसके घर से नक्सली या उनके समर्थक पकड़े जाते हैं तो मकान मालिक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. लेकिन फिर भी इस नियम का कड़ाई से पालन नहीं किया जा रहा है.

नक्सलियों के शहरी नेटवर्क को तोड़ने में जुटी झारखंड पुलिस

21 अगस्त 2020: रांची में बड़े व्यवसायी की हत्या करने की योजना बना रहा PLFI उग्रवादी परमेश्वर गोप को रांची के टाटीसिलवे से पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

 

2 मई 2020: झारखंड एसटीएफ ने अरगोड़ा इलाके में छिपकर रह रहे टीपीसी के सब जोनल कमेटी सदस्य सौरभ गंझू उर्फ दिनेश गंझू को गिरफ्तार किया था. दिनेश चतरा जिले के टंडवा थाना क्षेत्र के गोंदा का रहने वाला था.

 

11 फरवरी 2020: टीपीसी उग्रवादी संगठन का सक्रिया एरिया कमांडर राजेंद्र कुमार भुईया उर्फ बादल जी को पलामू पुलिस ने रांची के रातू से गिरफ्तार किया था.

 

22 फरवरी 2020: नक्सली संगठन के बिहार-झारखंड सीमांत स्पेशल एरिया कमेटी के सदस्य सह पूर्वी बिहार पूर्वोत्तर झारखंड स्पेशल एरिया कमेटी कमांडर सिद्धू कोड़ा को एसटीएफ ने दुमका से एक सहयोगी के साथ गिरफ्तार कर लिया था.

 

31 जनवरी 2020: टीएसपीसी का सबजोनल कमांडर निशांत को पुलिस ने कार्रवाई करते हुए रांची के रातू से गिरफ्तार किया था.

 

1 जुलाई 2019: लोहरदगा शहरी क्षेत्र से पुलिस ने तीन नक्सली समर्थकों को 118 जिंदा कारतूस और नक्सली पोस्टर-बैनर के साथ गिरफ्तार किया था.

 

25 जून 2019: देवघर के कुंडा स्थित एपी ऑर्थोपेडिक्स एंड ट्रॉमा सेंटर से बिहार के जमुई जिले के  गोविंदपुर के रहने वाले नक्सली सदस्य मंटू यादव को गिरफ्तार किया गया था. वह यहां अपना नाम बदलकर इलाज करा रहा था.

 

15 फरवरी 2019: छत्तीसगढ़ के बलरामपुर जिले की पुलिस टीम ने रांची के नामकुम से समाजवादी पार्टी के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष केश्वर यादव उर्फ रंजन यादव को गिरफ्तार किया था. केश्वर मूल रूप से पलामू के पांकी का रहने वाला है. और नामकुम में अपना मकान बनाकर रह रहा था. पुलिस ने उसे नक्सल संलिप्तता के आरोप में गिरफ्तार किया था.

इसे भी पढ़ें –बारिश की वजह से मुंबई हाईकोर्ट में छुट्टी, रिया और शोविक की जमानत पर सुनवाई टली

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button