JharkhandKhas-KhabarRanchi

झारखंड पुलिस की कार्रवाई से बौखलाये नक्सली, अब पोस्टरबाजी कर फैला रहे दहशत

Ranchi : झारखंड पुलिस की कार्रवाई से बौखलाये नक्सली पोस्टरबाजी कर दहशत फैलाने का काम कर रहे हैं. हाल के दिनों में भाकपा माओवादी के द्वारा राज्य के अलग-अलग जिले में पोस्टरबाजी कर दहशत फैलाने का काम किया जा रहा है. गौरतलब है कि राज्य में नक्सलियों की बढ़ती गतिविधि के बाद शुरू हुए झारखंड पुलिस की कार्रवाई से नक्सली संगठन बैकफुट पर है.

Jharkhand Rai

बताते चलें कि पुलिस द्वारा नक्सलियों के खिलाफ इन दिनों चलाया जा रहा अभियान काफी कारगर साबित हो रहा है. पिछले दो महीने की बात करें तो राज्य में नक्सली घटनाओं में काफी कमी आयी है.

इसे भी पढ़ें – कोरोना काल में पार्टी करने वाले पुलिसकर्मियों पर क्या हुई कार्रवाई, पुलिस मुख्यालय ने मांगा जवाब

नक्सलियों ने कुछ नये इलाकों में संगठन को स्थापित किया

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, माओवादियों ने हाल ही में अपने शीर्ष नेताओं को झारखंड के हालात के बारे में बताया है. बता दें कि नक्सली झारखंड में इस वर्ष पूरी तरह से बैक फुट पर हैं और सूबे में पुलिस की रणनीति के सामने बौने नजर आ रहे हैं. लेकिन सूत्रों से खबर मिली है कि नक्सलियों ने कुछ नये इलाकों में संगठन को स्थापित किया है. और रांची के तमाड़ सहित कई नये इलाके को फिर से रेड कॉरिडोर से जोड़ा है.

Samford

झारखंड पुलिस की सख्ती से नक्सलियों की साजिश हो रही नाकाम

झारखंड पुलिस की बढ़ती सख्ती की वजह से नक्सलियों की बौखलाहट बढ़ गयी है. इसी कारण नक्सली पुलिसकर्मियों पर हमले की लगातार साजिश रच रहे हैं. इधर  झारखंड पुलिस लगातार नक्सलियों के खिलाफ अभियान चलाकर उनके द्वारा रची जा रही हमले की हर साजिश को नाकाम कर रही है.

पिछले पांच महीनों की बात की जाये तो नक्सलियों ने पुलिसकर्मियों पर कई बार हमले की साजिश रची. लेकिन हर बार ये साजिश नाकाम हो गयी. पिछले वर्ष नक्सली हमले में 14 जवान शहीद हो गये थे. वहीं इस साल नक्सली हमले में एक जवान शहीद हुआ है.

झारखंड पुलिस के रडार पर 196 इनामी नक्सली

झारखंड पुलिस के रडार पर 196 इनामी नक्सली हैं. नक्सलियों के खिलाफ झारखंड पुलिस लगातार अभियान चला रही है और इस दौरान पुलिस को सफलता भी हाथ लग रही है. गौरतलब है कि एक करोड़ रुपये के चार इनामी नक्सली झारखंड पुलिस के लिए चुनौती बने हुए हैं. जिनमें- प्रशांत बोस उर्फ किशन दा उर्फ मनीष उर्फ बुढ़ा, निवासी- ग्राम यादवपुर जिला 24 परगना (पश्चिम बंगाल).

मिसिर बेसरा उर्फ भास्कर उर्फ सुनिर्मल जी उर्फ सागर, निवासी- ग्राम मदनडीह, थाना पीरटांड़ जिला गिरिडीह. असीम मंडल उर्फ आकाश उर्फ तिमिर, निवासी- ग्राम उत्तर फुलचक थाना चन्द्रकोणा जिला पश्चिम मिदनापुर (प बंगाल). अनल दा उर्फ तूफान उर्फ पतिराम मांझी उर्फ पतिराम मरांडी उर्फ रमेश, निवासी- ग्राम झरहाबाले थाना पीरटांड जिला गिरिडीह.

पोस्टरबाजी कर दहशत फैलाने का काम कर रहे नक्सली

19 सितंबर: हजारीबाग में नक्सली संगठन के नाम पर विष्णुगढ़ प्रखंड के खरकी बंदखोर गांव में जगह-जगह पोस्टर चिपकाया गया है. जहां नक्सलियों ने अपनी वर्षगांठ बनाने की अपील की है.

 

19 सितंबर: गिरिडीह के डुमरी निमियाघाट थाना क्षेत्र में नक्सलियों ने पोस्टर बाजी किया था.और कहा था मिशन समाधान 2018 से 2022 को पूरी तरह विफल करे.

 

19 सितंबर : रांची के तमाड़ थाना में नक्सलियों ने कई स्थानों पर पोस्टबाजी की है. नक्सलियों के द्वारा संगठन के 16 वां स्थापना दिवस पर सप्ताहव्यापी अभियान के तहत इलाके में पोस्टर लगाकर चेतावनी दी गयी थी.

 

17 सितंबर : बोकारो के गोमिया थाना क्षेत्र के बैंक मोड़ बस स्टैंड में नक्सलियों ने पोस्टरबाजी की. माओवादियों द्वारा पोस्टरबाजी में लिखा था कि मिशन समाधान 2018 से 2022 को पूरी तरह विफल करें.

17 सितंबर: चाईबासा के जिला मुख्यालय में बैनर टांगकर नक्सलियों ने पुलिस प्रशासन की नींद उड़ा दी थी. बैनर लगाकर गांव-गांव में नक्सलियों की फौज खड़ी करने और संयुक्त मोर्चा बनाने की अपील की गयी थी.

 

13 सितंबर: चाईबासा जिले के मनोहरपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत रायडीह पंचायत के बड़पोस गांव में नक्सलियों ने पोस्टरबाजी की थी. भाकपा माओवादियों के दक्षिण जोनल कमेटी के द्वारा गांव में पोस्टरबाजी की गयी थी.

इसे भी पढ़ें –CoronaUpdate : 24 घंटे में कोरोना के 92605 नये केस, 1133 कोविड मरीजों की मौत

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: