न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राष्ट्रीय ग्रामीण विकास निगम कर रहा ठगे हुए लोगों को फिर से ठगने की तैयारी!

804

Ranchi: खूद को नन प्राफिटेबल संस्था बताने वाला राष्ट्रीय ग्रामीण विकास निगम (आरजीवीएन) ठगे गये लोगों से ही प्रॉफिट कमाने की तैयारी में है. धनबाद से संचालित इस संस्थान ने दैनिक अखबार में विज्ञापन जारी किया है.

इसे भी पढ़ेंः IAS खंडेलवाल का वित्त विभाग ना ज्वाइन करने की वजह कहीं सरकार का खाली खजाना तो नहीं!

विज्ञापन के जरीये राज्य के ठगे गये लोगों से उनकी पूरी डिटेल मांगी जा रही है. डिटेल के अलावा लोगों से पैसे भी मांगे जा रहे हैं. आरजीवीएन का कहना है कि हमारी संस्था लोगों के लूटे जा चुके पैसों को वापस कराने की कोशिश करेगी. साथ ही एक डेटा एनालिसिस तैयार कर खुद से ही सीबीआई को सौंपेगी.

hosp3

इस बावत संस्था के दो पदाधिकारियों से बात हुई. लेकिन दोनों ने अलग-अलग बात कही. संस्था के उतम कुमार ने कहा कि हम लोगों के डूबे पैसों को निकालेंगे. वहीं संस्था का निदेशक बताने वाले प्रकाश महतो ने कहा कि हम लोगों के पैसे वापस नहीं करेंगे बल्कि डेटा तैयार करेंगे.

इसे भी पढ़ेंःस्टिंग में सांसदों ने कहा- तीन से 25 करोड़ तक खर्च कर जीतते हैं चुनाव (जानें कौन हैं ये सांसद)

नौ जिलों के लोगों का होगा काम

इस संस्था ने तीन चरणों में लोगों से डेटा उपलब्ध कराने की मांग की है. पहले चरण में संस्था बोकारो, गिरिडीह, धनबाद, दुमका, जामताड़ा, गोड्डा, साहेबगंज और पाकुड़ जिला के लोगों के लिए काम कर रही है.

इन जिलों के ठगे गये लोगों से पैसे वापस कराने के नाम पर डेटा संकलन कर रही है. साथ ही उनसे पैसे भी लिये जा रहे हैं. कंपनी के निदेशक प्रकाश महतो ने कहा कि हमने 3 अप्रैल को विज्ञापन निकाला है और 5 को अप्रैल तक ही अंतिम तिथि है. इस विज्ञापन के माध्यम से ही लोगों से गलत तरीके से पर्सनल डिटेल और पैसों की ठगी की जा रही है.

इसे भी पढ़ेंः छत्तीसगढ़ के कांकेर में नक्सलियों से मुठभेड़ में चार जवान शहीद, दो घायल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: