न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नेशनल हेराल्ड केस : सोनिया, राहुल को राहत नहीं, SC का इनकम टैक्स की जांच जारी रखने का निर्देश

नेशलन हेराल्ड केस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी का टैक्स असेसमेंट (कर आकलन)  जारी रखने के लिए आयकर विभाग को मंजूरी दे दी.

17

 NewDelhi : नेशनल हेराल्ड केस (आयकर मामला) में राहुल गांधी और सोनिया गांधी को SC ने मंगल्वार को कोई राहत नहीं दी. SC ने इनकम टैक्स की जांच जारी रखने का निर्देश दिया है.  बता दें कि नेशलन हेराल्ड केस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी का टैक्स असेसमेंट (कर आकलन)  जारी रखने के लिए आयकर विभाग को मंजूरी दे दी.  मामले की अगली सुनवाई तक कोई आदेश पास नहीं किया जायेगा. अगली सुनवाई जनवरी 2019 में होगी. सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद अब राहुल गांधी, सोनिया गांधी के खिलाफ इनकम टैक्स वित्तीय वर्ष 2011-2012 के लिए टैक्स पुनर्मूल्यांकन कर पायेगा. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इनकम टैक्स विभाग को यह इजाजत दे दी, मगर कहा है कि आयकर विभाग कोई फैसला नहीं लेगा. अगली सुनवाई आठ जनवरी को होगी. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट नेशनल हेराल्ड मामले में सोनिया गांधी, राहुल गांधी और ऑस्कर फर्नांडिस को जारी इनकम टैक्स के नोटिस के खिलाफ दाखिल याचिका पर सुनवाई कर रहा है.  इस क्रम में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोर्ट के सामने यह सवाल है कि इनकम टैक्स का नोटिस वैध है या नहीं. कोर्ट ने कहा कि जब मामले की अंतिम सुनवाई को तैयार हैं तो इनकम टैक्स का नोटिस जारी हो या नहीं इससे कोई फर्क नहीं पड़ता.

यह सिर्फ शेयर ट्रांसफर का मामला,  इसे आय नहीं कहा जा सकता : पी चिदंबरम

बता दें कि सोनिया गांधी, राहुल गांधी और ऑस्कर फर्नांडिस ने वित्तीय वर्ष 2011-2012 के लिए टैक्स के पुनर्मूल्यांकन की मांग को लेकर जारी इन्कम टैक्स नोटिस को चुनौती दी है. कोर्ट में याचिकाकर्ताओं की ओर से पेश पूर्व मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि यह सिर्फ शेयर ट्रांसफर का मामला है. इसे आय नहीं कहा जा सकता है. याद करें कि 9 सितंबर को दिल्ली हाई कोर्ट ने नेशनल हेराल्ड मामले में आयकर विभाग के नोटिस के खिलाफ सोनिया और राहुल की याचिका खारिज कर दी थी. यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली हाईकोर्ट में आयकर विभाग के उस नोटिस को चुनौती दी थी जिसमें वित्तीय वर्ष 2011-2012 के लिए टैक्स के पुनर्मूल्यांकन की मांग को लेकर जारी इनकम टैक्स नोटिस को चुनौती दी थी. सोनिया गांधी और राहुल गांधी की तर्ज पर पार्टी के वरिष्ठ नेता आस्कर फर्नांडीज ने भी दिल्ली हाई कोर्ट में यंग इंडिया-नेशनल हेराल्ड लेनदेन आकलन को आयकर विभाग द्वारा फिर से खोलने को चैलेंज किया था.  लेकिन आयकर विभाग ने राहुल गांधी के साल 2011-12 के आयकर आकलन को फिर से खोलने का निर्णय लिया, क्योंकि राहुल ने उसमें यह जानकारी नहीं दी कि वह 2010 से कंपनी यंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर थे.

इसे भी पढ़ें : नेशनल हेराल्ड केस : एसोसिएटेड जर्नल्स को आवंटित जमीन ईडी ने कुर्क की, कांग्रेस ने कहा, कार्रवाई  दुर्भावनापूर्ण

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: