JharkhandLead NewsNEWSRanchi

नेशनल हेल्थ मिशन  झारखंड : प्रेग्नेंट महिलाएं हुई रजिस्टर्ड लेकिन लाखों बच्चों का पता ही नहीं

Ranchi: नेशनल हेल्थ मिशन के बैनर तले स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए तरह-तरह की योजनाएं चलाई जा रही है. वहीं मां और उसके बच्चों को बचाने के लिए इलाज से लेकर आहार तक के इंतजाम किए गए हैं. जिससे कि मां और बच्चा दोनों ही स्वस्थ रहे. इतना ही नहीं प्रेग्नेंसी से लेकर जन्म और उसके बाद रजिस्ट्रेशन भी कराने की व्यवस्था की गई है, लेकिन पिछले कुछ सालों में प्रेग्नेंट महिलाएं तो रजिस्टर्ड हुई लेकिन लाखों बच्चों का पता ही नहीं चल पाया. वहीं इसका कोई रिकार्ड भी स्वास्थ्य विभाग के पास नहीं है कि आखिर उनका क्या हुआ. ये हम नहीं बल्कि रिप्रोडक्टिव एंड चाइल्ड हेल्थ, हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर डिपार्टमेंट भारत सरकार की रिपोर्ट कह रही है. जहां 2021-22 के बीच रजिस्टर्ड प्रेग्नेंट महिलाओं और बच्चों के आंकड़ों में भी काफी अंतर है.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड में ग्रामीण सड़कों की मरम्मत जल्द शुरू नहीं हुई तो लैप्स हो जाएगा 60 करोड़

5,55,145 बच्चों की जानकारी नहीं

रिप्रोडक्टिव एंड चाइल्ड हेल्थ की शुरुआत के बाद से झारखंड में 60 लाख से अधिक एलिजिबल कपल रजिस्टर्ड हुए है. जिसमें 56 लाख 49,201 महिलाएं प्रेग्नेंट हुई. जिनका रजिस्ट्रेशन के बाद प्रापर ट्रीटमेंट भी चला, लेकिन बच्चों के रजिस्ट्रेशन और प्रेग्नेंट महिलाओं के रजिस्ट्रेशन में बड़ा अंतर देखा जा रहा है. जिससे साफ है कि 5,55,145 बच्चे रजिस्टर्ड ही नहीं हुए. अब इन बच्चों का रजिस्ट्रेशन ही नहीं हुआ या फिर ये बच्चे किस स्थिति में है इसकी कोई जानकारी नहीं है. वहीं 2021-22 के आंकड़ों पर नजर डाले तो उसमें भी 51344 बच्चों की कोई डिटेल्स विभाग के पास नहीं है.

 

आनलाइन में अबतक हो चुके है रजिस्टर्ड

एलीजिबल कपल रजिस्टर्ड 60,02,161

प्रेग्नेंट महिलाएं 56,49,201

चिल्ड्रेन रजिस्टर्ड 50,94,056

 

2021-22 के आंकड़ों पर नजर

एलीजिबल कपल रजिस्टर्ड 1,56,765

प्रेग्नेंट महिलाएं 1,62,693

चिल्ड्रेन रजिस्टर्ड 1,11,349

इस मामले में मैटरनल हेल्थ केयर की स्टेट नोडल आफिसर डॉ दीपावली ने बताया कि प्रेग्नेंसी का लगभग 8-10 परसेंट लॉस होता है. बाकी कुछ लोग अबार्शन भी कराते है. इसके अलावा कुछ लोग रजिस्ट्रेशन के लिए नहीं आते है जिससे कि आंकड़ों में अंतर हो सकता है. इसके लिए विभाग गंभीरता से विचार कर रहा है कि कैसे हर जानकारी अपडेट रहे. वहीं प्रेग्नेंसी लॉस कम करने के लिए हमलोग काम कर रहे हैं.

Related Articles

Back to top button