ChaibasaJamshedpurJharkhandKhas-KhabarSci & Tech

NASA Telescope: 13.8 अरब साल पीछे की ब्रम्हांड की उत्पति को देख पाना संभव बना दिया इस टेलिस्कोप ने

Jamshedpur : नासा के सबसे शक्तिशाली टेलिस्कोप ने 13.8 अरब साल पीछे जाकर ब्रह्मांड की उत्पत्ति को देख पाना संभव बनाया है. गत सोमवार को नासा द्वारा भेजी गई ब्रम्हांड की तस्वीरें खगोल विज्ञान के नये युग की शुरुआत है. नासा की सबसे शक्तिक्शाली जेम्स बेव स्पेस टेलिस्कोप ने ब्रह्मांड की पहले कभी नहीं देखी गई तमाम  रंगीन तस्वीरें भेजी हैं. सोमवार  को पहली तस्वीर को रिलीज़ करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक दिन है क्योंकि दुनिया के सबसे बड़े और शक्तिशाली टेलिस्कोप ने ब्रह्माण्ड के इतिहास में नई पेशकश की है. यह अमेरिका और पूरी मानवता के लिए एक ऐतिहासिक क्षण है. 10 बिलियन डॉलर के जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप पिछले साल दिसंबर में लांच किया गया था. इससे ली गई यह पहली तस्वीर समय और दूरी दोनों में अब तक की सबसे दूर की है.

तस्वीर में आप देख सकते हैं कि यह हजारों आकाशगंगाओं से भरी हुई है, इसमें कुछ धुंधली वस्तुएं भी देखी गईं, जो नीले, नारंगी और सफेद रंग में रंगी हुईं हैं.नासा के प्रशासक बिल नेल्सन ने कहा कि हम 13 अरब से अधिक वर्षों में पीछे मुड़कर देख रहे हैं. इन छोटे कणों में से एक पर आप जो प्रकाश देख रहे हैं, वह 13 अरब वर्षों से यात्रा कर रहा है. यह इसे बिग बैंग से सिर्फ 800 मिलियन वर्ष छोटा बनाता है. यह एक ऐसा दृश्य है जिसे हमने पहले कभी नहीं देखा है. उल्लेखनीय है कि वेब स्पेस टेलीस्कोप को अमेरिका के फ्रेंच गुयाना से यूरोप के एयरक्राफ्ट Ariane 5 rocket से अंतरिक्ष में भेजा गया था. एक महीने  की यात्रा करने के बाद यह 15 लाख किलोमीटर का सफर तय कर अपनी मंजिल पर पहुंचा.

ये हैं लक्ष्‍य
इसके दो लक्ष्य है – पहला ब्रह्मांड में 13.5 अरब साल से भी पहले से चमकने वाले सबसे पहले सितारों की तस्वीरें लेना और दूसरा लक्ष्य ऐसे ग्रहों की तलाश करना है, जहां जीवन की उम्मीद हो.  इस टेलिस्कोप को नासा, यूरोपियन स्पेस एजेंसी और कैनेडियन स्पेस एजेंसी ने मिलकर तैयार किया है. इस प्रोजेक्ट पर करीब 75 हजार करोड़ रुपए का खर्च आया है. यह दुनिया का सबसे ताकतवर टेलिस्कोप है , जेम्स वेब स्पेस टेलिस्कोप 1990 में अंतरिक्ष में भेजे गए हबल टेलिस्कोप के मुकाबले 100 गुना ज्यादा शक्तिशाली है.

Sanjeevani

ये भी पढ़ें- Jamshedpur: तीन दिनों तक झाड़फूंक के बाद ओझा ने मानी हार, सर्पदंश से मृत बच्‍चे को ज‍िंदा करने का क‍िया था दावा

 

 

 

Related Articles

Back to top button