JharkhandLead NewsRanchi

ADJ उत्तम आनंद की हत्या मामले में दो आरोपियों का हुआ नार्को टेस्ट, ब्रेन मैपिंग भी होगी

Ranchi : धनबाद में ADJ उत्तम आनंद की हत्या मामले में ऑटो चालक लखन वर्मा और सहयोगी राहुल वर्मा को लेकर CBI गुजरात के गांधीनगर पहुंची है. यहां इन दोनों का नार्को टेस्ट कराया गया है. इसके साथ ही इनकी ब्रेन मैपिंग भी हो रही है.

जानकारी हो कि इन दोनों आरोपियों को सोमवार को राजधानी एक्सप्रेस से CBI दिल्ली ले गई थी. इसके बाद इनको नार्को और ब्रेन मैपिंग के लिए गांधीनगर ले जाया गया है .

सीबीआई के जांच अधिकारी और एफएसएल के विशेषज्ञों की बैठक आज गुरुवार को होगी. बैठक में केस का ब्योरा सीबीआई विशेषज्ञों के समक्ष रखेगी. दोनों से पूछताछ के लिए प्रश्नावली तैयार की गई है. जांच के दौरान सीबीआई के अधिकारियों के और अलावा मनोवैज्ञानिक, डॉक्टर और फोरेंसिक विशेषज्ञ के साथ दोनों के ब्रेन पैनल एडवोकेट भी मौजूद रहेंगे.

इसे भी पढ़ें :National Corona Update: नहीं सुधर रही है केरल की स्थिति, देश 35 हजार से अधिक संक्रमित मिले

अहम जानकारी देनेवाले को मिलेंगे 5 लाख रुपये

जज की मौत मामले से में अहम जानकारी देनेवाले को सीबीआई ने 15 अगस्त को विज्ञापन निकाल कर पांच लाख रुपये नगद इनाम देने की घोषणा की थी, लेकिन अभी तक कोई साक्षी सामने नहीं आया. नार्को के बाद भी यदि एजेंसी को कोई ठोस सबूत नहीं मिलता तो लखन और राहुल की बातों पर यकीन करने के सिवाय सीबीआई के पास कोई रास्ता नहीं बचेगा.

ऐसे में इस मामले को हत्या से गैर इरादतन हत्या ( दुर्घटना) में तब्दील करना होगा. जज की हत्या की गुत्थी सुलझाने धनबाद पहुंचे सीबीआई के अधिकारी दिल्ली लौट गए हैं. सीबीआई की सीएफएसएल टीम तीन दिन पहले ही लौट चुकी है. इसके अलावा टेक्निकल एक्सपर्ट भी लौट चुके हैं.

इसे भी पढ़ें :पुलिस मुख्यालय ने दुष्कर्म के आरोपी निलंबित डीएसपी कमलकांत प्रसाद के खिलाफ  विज्ञापन छपवाया

हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने स्वतः लिया था संज्ञान

जज उत्तम आनंद की मौत 28 जुलाई की सुबह हुई थी. वे घर से सुबह की सैर पर निकले थे. धनबाद के रणधीर वर्मा चौक पर 5 बजकर 8 मिनट पर एक ऑटो ने उन्हें पीछे से धक्का मार दिया था. अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने जज साहब को मृत घोषित कर दिया. घटना का सीसीटीवी फुटेज देखने से ऐसा प्रतीत होता है कि यह हादसा नहीं है बल्कि जज को ऑटो चालक ने जानबूझकर धक्का मारा.

इस घटना को सुप्रीम कोर्ट और झारखंड हाई कोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया था. झारखंड सरकार की अनुशंसा पर मामले की जांच की जिम्मेवारी सीबीआई जांच कर रही है.

इसे भी पढ़ें :रक्षा बंधन पर योगी सरकार ने महिलाओं को दिया तोहफा, फ्री में कर सकेंगी बस में सफर

Related Articles

Back to top button