न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

योगी के बाद नकवी ने कहा ‘मोदी की सेना’, चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट

‘मोदी की सेना’ बयान पर टिप्पणी कर विवादों में घिरे केंद्रीय मंत्री वीके सिंह

777

New Delhi: चुनावी संग्राम के जोश में नेताओं के बयान चर्चा में रहती है. पहले यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और अब केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी को चुनाव आयोग की तरफ से नोटिस मिला है. दोनों ही नेताओं ने भारत की सेना को ‘मोदी की सेना’ कहकर संबोधित किया था.

इसे भी पढ़ेंःआडवाणी ने ब्लॉग में लिखी ‘मन की बात’, कहा- राजनीतिक विरोधियों को कभी…

Sport House

चुनावी सभा में कहा मोदी की सेना

यूपी के रामपुर में बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि मोदी की सेना तो आतंकवादियों को घर में घुसकर मार रही है. इसी बयान पर चुनाव आयोग ने रिपोर्ट तलब की है. इस रिपोर्ट में बयान की वीडियो रिकोर्डिंग भी शामिल की जाएगी.

मुख्तार अब्बास के बयान की पूरी जांच होगी और विशेषज्ञों की टीम बारीकी से इसका अध्ययन करेगी. इसी के बाद कार्रवाई को लेकर किसी तरह का फैसला लिया जाएगा.

उल्लेखनीय कि इससे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी भारतीय सेना को ‘मोदी की सेना’ कहकर संबोधित किया था. जिसपर कई विपक्षी पार्टियों ने सवाल उठाया था.

Vision House 17/01/2020

इसे भी पढ़ेंःस्टार प्रचारकों का खर्च राजनीतिक पार्टियों को करना होगा वहन : विनय…

मोदी की सेना पर बयान दे फंसे वीके सिंह

Related Posts

#Shabana_Azmi की कार ट्रक से जा टकरायी,  गंभीर रूप से घायल अभिनेत्री अस्पताल में भर्ती

बॉलिवुड की प्रसिद्ध अभिनेत्री शबाना आजमी के मुंबई-पुणे एक्सप्रेस-वे पर सड़क दुर्घटना में घायल होने की खबर है.

एक ओर जहां बीजेपी नेता भारतीय सेना को मोदी की सेना बताकर निर्वाचन आयोग के रडार पर हैं. वहीं दूसरी ओर मोदी की सेना को लेकर दिये अपने बयान पर केंद्रीय मंत्री वीके विवादों में घिर गये हैं.

SP Deoghar

दरअसल बीबीसी इंडिया को दिये अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि जो कोई भी भारतीय सेना को मोदी की सेना कहता है वह देशद्रोही है. उन्होंने कहा था, ‘‘सेना किसी की नहीं होती है. सेना सिर्फ देश की होती है. इसमें मोदी सेना कहां से आ गयी.’’

हालांकि, केंद्रीय मंत्री वी के सिंह ने विवाद गहराता देख इस तरह की टिप्पणी से इनकार किया है.

इसे भी पढ़ेंःछत्तीसगढ़ में नक्सलियों से मुठभेड़ में धनबाद का इसरार खान शहीद

सिंह ने हालांकि टिप्पणी करने की बात को पुरजोर तरीके से खारिज करते हुए कहा कि संबंधित रिपोर्टर ने ‘कट-पेस्ट’ करने का काम किया है. उन्होंने ट्विटर पर सवाल खड़ा किया कि ऐसा करने के लिए मीडिया हाउस को ‘‘कितना पैसा मिला’’.

बीबीसी इंडिया ने सिंह के साथ अपनी बातचीत का एक पूरा वीडियो अपने ट्विटर हैंडल पर जारी किया है ताकि उसके दावे की पुष्टि की जा सके और कहा कि विदेश राज्य मंत्री ने इसके लिए “प्रेस्टीट्यूट” शब्द का भी इस्तेमाल किया था.

इसे भी पढ़ेंःरामटहल के निर्दलीय चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद BJP ने की विशेष रणनीति पर चुनाव लड़ने की तैयारी

Mayfair 2-1-2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like