National

OIC के ‘इस्लामोफोबिया’ वाले बयान पर नकवी का जवाब: मुसलमानों के लिए स्वर्ग है भारत

New Delhi: मुस्लिम देशों के संगठन (OIC) द्वारा भारत में अल्पसंख्यकों के अधिकारों को लेकर चिंता प्रकट किए जाने के बाद केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि भारत मुसलमानों के लिए स्वर्ग है.

इसे भी पढ़ेंःमुंबई के बाद अब तमिल न्यूज चैनल के 25 पत्रकार कोरोना पॉजिटिव, रोकना पड़ा लाइव शो, दिल्ली के पत्रकारों का होगा टेस्ट

advt

मंगलवार को उन्होंने कहा कि जो लोग देश का माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं वो मुस्लिम समुदाय के दोस्त नहीं हो सकते. उन्होंने यह भी कहा कि देश में अल्पसंख्यकों के धार्मिक, सामाजिक और आर्थिक अधिकार पूरी तरह सुरक्षित हैं.


नकवी ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सभी वर्गों का विकास हो रहा है और इसमें किसी के साथ भेदभाव नहीं हो रहा है.

धर्मनिरपेक्षता और सद्भाव राजनीतिक फैशन नहीं, जुनून

नकवी ने संवाददाताओं से कहा, ‘एक बात साफ है, धर्मनिरपेक्षता और सद्भाव भारतवासियों के लिए राजनीतिक फैशन नहीं, बल्कि जुनून है. यह हमारे देश की ताकत है. इसी ताकत ने देश के अल्पसंख्यकों सहित सभी लोगों के धार्मिक, सामाजिक अधिकार सुरक्षित हैं.’

मंत्री ने कहा कि भारत मुसलमानों और सभी अल्पसंख्यक समुदायों के लिए स्वर्ग है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में तुष्टिकरण के बिना सशक्तिकरण की भावना के साथ सबको विकास में जोड़ा जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंःरांची: कोरोना के डर से लेक व्यू अस्पताल के तीसरे तल्ले से कूदा युवक, रिम्स के कोविड-19 वार्ड में तोड़ा दम

देश का माहौल बिगाड़नेवाले मुस्लिमों के दोस्त नहीं

नकवी के मुताबिक संकट के समय में भी कुछ लोग दुष्प्रचार और फर्जी खबरों के माध्यम से देश की इस ताकत को कमजोर करने की साजिश में लगे हुए हैं. मंत्री के मुताबिक देश का माहौल खराब कर रहे लोग भारतीय मुसलमानों के दोस्त नहीं हो सकते.

उन्होंने कहा, ‘‘फेक न्यूज़ एवं भड़काऊ बातों और अफवाह फ़ैलाने वाले साजिश-षड़यंत्र से हमें होशियार रहना चाहिए. नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत में सभी नागरिकों की सेहत-सलामती के लिए काम हो रहा है. इस तरह की साजिश से कोरोना के खिलाफ देश की सामूहिक जंग को कमजोर नहीं होने देना है.’’

नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में पूरा देश एकजुट हो कर धर्म-क्षेत्र-जाति की संकीर्ण सीमाओं से ऊपर उठ कर कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा है.

रमजान में लोगों से घर पर इबादत और इफ्तार करने की अपील करते हुए नकवी ने कहा कि देश के सभी मुस्लिम धर्म गुरुओं, इमामों, धार्मिक-सामाजिक संगठनों एवं भारतीय मुस्लिम समाज ने संयुक्त रूप से कुछ दिनों में शुरू हो रहे रमजान के पवित्र महीने में घरों पर ही रह कर इबादत, इफ्तार एवं अन्य धार्मिक कर्त्तव्यों को पूरा करने का निर्णय लिया है.

बता दें कि केंद्री मंत्री ने यह टिप्पणी उस वक्त आयी है जब ओआईसी ने गत रविवार को भारत से अनुरोध किया था कि वह अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय के अधिकारों की रक्षा करने और देश में ‘इस्लामोफोबिया’ (इस्लाम धर्म के प्रति पूर्वाग्रह) की घटनाओं को रोकने के लिए तुरंत कदम उठाए.

इसे भी पढ़ेंः #Lockdown : प्राइवेट अस्पतालों में फोन पर लें फ्री कंसल्टेंसी, जारी किये गये नंबर

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: