JharkhandLead NewsRanchi

नामकुम, ओरमांझी व अनगड़ा रिंग रोड का होगा चौड़ीकरण

  • चार गांवों की 10 एकड़ जमीन का होगा अधिग्रहण
  • मुआवजे के तौर पर रैयतों के बीच लगभग 37 करोड़ रुपए दिये जायेंगे

Ranchi: नामकुम, अनगड़ा व ओरमांझी रिंगरोड का चौड़ीकरण होगा. इसको लेकर जिला प्रशासन ने जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू कर दी है. चार गांवों में रैयतों के बीच मुआवजे के तौर पर लगभग 37 करोड़ रुपये का भुगतान किया जायेगा.

तीनों गांवों में लगभग 10 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया जायेगा. सर्वे का काम पूरा हो चुका है. अवार्ड की घोषणा भी जल्द कर दी जायेगी. जिला भू-अर्जन कार्यालय द्वारा अवार्ड बना लिया गया है. दखल की कार्रवाई शुरू कर दी गयी है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ेंःपूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने की मांग- 10वीं और 12वीं की परीक्षा रद्द करे सरकार

The Royal’s
Sanjeevani

एनएच-23 सड़क चौड़ीकरण में इटकी व बेड़ो के 15 गांवों की जमीन का होगा अधिग्रहण

एनएच-23 का भी चौड़ीकरण किया जायेगा. इसमें इटकी व बेड़ो के 15 गांवों की जमीनें ली जायेंगी. बेड़ो के 12 गांव व इटकी के तीन गांव की जमीन का अधिग्रहण होगा.

50 फीसदी रैयतों को भुगतान कर दिया गया है

बताया गया कि नामकुम, अनगड़ा व ओरमांझी रिंग रोड चौड़ीकरण योजना के लिए जिन गांवों की जमीनें ली गयीं हैं, उनके 50 फीसदी रैयतों को मुआवजे का भुगतान कर दिया गया है.

सड़क चौड़ीकरण के लिए जिन गांवों की जमीनें ली जा रही हैं उनमें बेरवारी, नेवरी, कोलयारी व गड़के गांव शामिल हैं. जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है. इन गांवों की जमीन की बिक्री पर रोक लगा दी गयी है. इससे पूर्व मास्टर प्लान के तहत इन गांवों की जमीन ली गयी थी.

इसे भी पढ़ेंःबांका के मदरसा में ब्लास्ट का झारखंड से जुड़ा कनेक्शन, स्लीपर सेल की तलाश में NIA

इन गांवों की जमीनें ली जायेंगी

गांव का नाम                             कितनी जमीन                                               मुआवजे की राशि

  • बेरवारी                                     1.36 एकड़                                                          3 करोड़
  • नेवरी                                        1 एकड़                                                               10 करोड़
  • कोलयारी                                   2.15 एकड़                                                          7.50 करोड़
  • गड़के                                       5 एकड़                                                                22 करोड़

इसे भी पढ़ेंःबगैर रोजगार सेवक कैसे आगे बढ़े मनरेगा कार्यक्रम, 1400 से भी अधिक कर्मियों की बाट जोह रहा विभाग

Related Articles

Back to top button