न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नामकुम प्रखंड में भू माफियाओं का बोलबाला, रैयतों ने सीओ को जमीन की लूट पर रोक लगाने का सौंपा मांग पत्र

302

Ranchi: सोमवार को रांची जिला के नामकुम प्रखंड में जमीन की लूट के खिलाफ एक प्रतिनिधिमंडल ने नामकुम अंचल की अंचल अधिकारी सुभ्रा रानी से मुलाकात की तथा जमीन लूट पर रोक लगाने के लिए मांग पत्र सौंपा. मांग पत्र में अंचल अधिकारी को वर्तमान में नामकुम प्रखंड में जमीन लूट की स्थिति से अवगत कराया. कहा गया कि भू माफियाओं द्वारा हथियार के बल पर तथा अंचल के कर्मचारियों की मिलीभगत से रैयती जमीन का फर्जी कागजात बना कर जमीन लूट को अंजाम दिया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – कौन है वो बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता, जिसे बिना नंबर के स्कॉर्पियो से झारखंड में घूमने की छूट है

सीएनटी एक्ट की धारा 46 का उल्लंघन रोका जाये

मांग पत्र में कहा गया कि जमीन की खरीद बिक्री में नामकुम अंचल द्वारा सीएनटी एक्ट की धारा 46 के उल्लंघन पर रोक लगायी जाये. ज्ञात हो कि इन दिनों नामकुम प्रखंड में भू माफियाओं का बोलबाला है. अधिकारियों-कर्मचारियों के गंठजोड़ से गरीब किसानों, मजबूर व्यक्तियों की जमीन की लूट का गोरखधंधा चलाया जा रहा है, जिससे आम ग्रामीण त्रस्त हैं.

इसे भी पढ़ें – चांसलर पोर्टल के कारण बर्बाद हो रहा छात्रों का पैसा और समय, सिस्टम में सिर्फ खामियां

प्रतिनिधिमंडल ने अंचल अधिकारी से इन मामलों पर हस्तक्षेप करने, धारा 46 का ईमानदारीपूर्वक अनुपालन करने का आग्रह किया. जमीन की खरीद बिक्री की ग्राम सभा को जानकारी देने एवं उसकी सहमति लेने पर भी जोर दिया. साथी किसान सम्मान योजना के तहत यहां के मूल रैयतों का नाम दर्ज ना कर बाहर के जमीन के खरीदारों का नाम सूची में डाले जाने के कारण जनता में फैल रहे असंतोष से अवगत कराया. प्रतिनिधिमंडल में आरती कुजूर चंपा टोपो, बबलू नायक, अमीना कुला, बिरंगी तिग्गा, बंसी तिग्गा, ओवेद टोपनो, बैला टोपनो, लक्ष्मण कच्छप, चारी टोप्पो, सारो देवी सहित कई ग्रामीण शामिल थे.

इसे भी पढ़ें – कैबिनेट का फैसलाः राज्य सरकार के कर्मियों एवं पेंशनरों का डीए 3 फीसदी बढ़ा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: