न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नमामि गंगे प्रोजेक्ट फेज-2 : 520 करोड़ की लागत से धनबाद और फुसरो में बनेगा सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट

धनबाद में 400 करोड़ और फुसरो में 120 करोड़ रुपये होंगे खर्च, रामगढ़ में बननेवाले सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के लिए डीपीआर हो रही तैयार

47

Ranchi : नमामि गंगे प्रोजेक्ट फेज-2 के तहत राज्य के तीन नगर निकायों धनबाद, रामगढ़ और फुसरो में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट बनाने की स्वीकृति मिल गयी है. तीनों नगर निकाय दामोदर नदी के किनारे बसे हैं. नमामि गंगे परियोजना के तहत होनेवाले आधारभूत संरचना निर्माण को लेकर शुक्रवार को आयोजित समीक्षा बैठक में नगर विकास सचिव अजय कुमार सिंह ने यह जानकारी दी. इस दौरान उन्होंने सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का पावर प्वॉइंट प्रेजेंटेशन देखा. बैठक में मौजूद स्टेट अर्बन डेवलपमेंट एजेंसी के निदेशक अमित कुमार ने कहा कि धनबाद में लगभग 400 करोड़ और फुसरो में 120 करोड़ रुपये की लागत से ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण होगा. उन्होंने अधिकारियों को इस दिशा में त्वरित कार्य करने का निर्देश दिया. बैठक में जुडको के प्रोजेक्ट डायरेक्टर (टेक्नि‍कल) एसके साहू सहित कई अधिकारी मौजूद थे. मालूम हो कि झारखंड में गंगा के साथ-साथ दामोदर और सोन को भी नमामि गंगे प्रोजेक्ट से जोड़ा गया है.

स्थल चयन के लिए टीम जायेगी धनबाद

सचिव ने कहा कि नमामि गंगे परियोजना केंद्र सरकार का एक महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट है. इस प्रोजेक्ट के फेज-2 के तहत तीनों नगर निकायों में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण किया जाना है. सीवरेज नेटवर्क का निर्माण राज्य सरकार वर्ल्ड बैंक, एशियन डेवलपमेंट बैंक या डिस्ट्रिक्ट माइनिंग फंड ट्रस्ट से करायेगी. अधिकारियों को उन्होंने निर्देश दिया कि प्लांट निर्माण के लिए स्थल चयन के लिए विभाग की एक टीम धनबाद जायेगी. वहीं, बोकारो और रामगढ़ में बननेवाले प्लांट के लिए वहां के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बात कर जमीन उपलब्धता सुनिश्चित की जायेगी. स्थल चयन के बाद स्थानीय निकायों में आनेवाले सभी स्टेकहोल्डर के साथ उन्होंने बैठक कर लिये गये सुझाव पर अमल करने की भी बात कही.

प्लांट निर्माण को लेकर कई निर्णय लिये गये

प्लांट निर्माण को लेकर नगर विकास सचिव ने अधिकारियों को ये निर्देश दिये-

  • तीनों नगर निकायों में संबंधित उपायुक्त को स्थल के लिए पत्र लिख संपर्क स्थापित करें.
  • धनबाद और फुसरो में बननेवाले एसटीपी की डीपीआर में आवश्यक संशोधन किया जाये.
  • रामगढ़ में बननेवाले सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट की फिजिबिलिटी रिपोर्ट प्रस्तुत करें.
  • सीवरेज लाइन के साथ ड्रिंकिंग वाटर सप्लाई, पाइपलाइन, ड्रेनेज और सड़क का निर्माण इंटीग्रेटेड एक्शन प्लान के तहत कराया जाये.

दामोदर नदी में प्रदूषण का स्तर होगा कम

स्टेट अर्बन डेवलपमेंट एजेंसी (सूडा) के निदेशक अमित कुमार ने बताया कि धनबाद में लगभग 400 करोड़ रुपये की लागत से सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण होगा. फुसरो में ट्रीटमेंट प्लांट के निर्माण में 120 करोड़ रुपये की लागत आयेगी. वहीं रामगढ़ के लिए अब तक डीपीआर तैयार नहीं हो पायी है. इसकी डीपीआर जल्द बना दी जायेगी. उन्होंने कहा कि योजनाओं के क्रियान्वयन के बाद इन शहरों में साफ-सफाई के स्तर में सुधार होगा. लोगों का जीवन स्तर बदलेगा. साथ ही, दामोदर नदी के पानी से प्रदूषण का स्तर भी कम होगा.

इसे भी पढ़ें- ग्लोबल एग्रीकल्चर समिट : बाबा रामदेव ने कहा- झारखंड न ले कोई टेंशन, मैं हूं न… वादा किया है,…

इसे भी पढ़ें- आरयू छात्रसंघ चुनाव : हथियारबंद लाव-लश्कर लेकर एबीवीपी की प्रत्याशी के समर्थन में कैंपस पहुंचे…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: