ChaibasaJamshedpurJharkhandSci & Tech

आजाद भारत के इतिहास में सीएसआईआर की पहली महिला डीजी बनी नल्लाथम्बी कलाइसेल्वी, एनएमएल जमशेदपुर समेत देश भर की 38 प्रयोगशाला का करेंगी नेतृत्व 

Jamshedpur: वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) ने रविवार को वरिष्ठ वैज्ञानिक नल्लाथम्बी कलाइसेल्वी को देश भर के 38 शोध संस्थानों के संघ की पहली महिला महानिदेशक (डीजी) घोषित किया. इन 38 शोध संस्थानों में जमशेदपुर स्थित राष्ट्रीय धातुकर्म प्रयोगशाला (एनएमएल) भी शामिल है. कलाइसेल्वी, सीएसआईआर के इतिहास में पहली महिला है, जिन्हें इस महत्वपूर्ण पद पर नियुक्त किया गया है. उनका कार्यकाल दो साल का होगा. कलैसेल्वी, शेखर मांडे की जगह लेंगी, जो अप्रैल में सेवानिवृत्त हुए थे. मांडे के सेवानिवृत्त होने पर जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव राजेश गोखले को सीएसआईआर का अतिरिक्त प्रभार दिया गया था. लिथियम आयन बैटरी के क्षेत्र में अपने काम के लिए जानी जाने वाली कलाइसेल्वी, वर्तमान में तमिलनाडु के कराईकुडी में सीएसआईआर-केंद्रीय विद्युत रासायनिक अनुसंधान संस्थान की पहली महिला निदेशक हैं. वह वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग के सचिव के रूप में भी कार्यभार संभालेंगी.

तमिलनाडु के तिरुनेलवेली जिले के एक छोटे से शहर अंबासमुद्रम की रहने वाली कलैसेल्वी ने अपनी स्कूली शिक्षा तमिल माध्यम से की. उन्हें कॉलेज में विज्ञान की अवधारणाओं को समझने में मदद मिली. कलाइसेल्वी का 25 से अधिक वर्षों का शोध कार्य का अनुभव है. वह वर्तमान में सोडियम-आयन/लिथियम-सल्फर बैटरी और सुपरकेपसिटर के विकास में शामिल है. कलाइसेल्वी ने इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के लिए राष्ट्रीय मिशन में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है. उनके पास 125 से अधिक शोध पत्र और छह पेटेंट हैं.

ये भी पढ़ें- Lal Singh Chaddha: आमिर खान की फिल्म लाल सिंह चड्‌ढ़ा में जमशेदपुर की शिल्पा राव का सांग तेरे हवाले…

Sanjeevani

Related Articles

Back to top button