न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रालोसपा को झटकाः नागमणि ने दिया इस्तीफा, कुशवाहा पर लगाया पार्टी टिकट बेचने का आरोप

445

Patna: आम चुनाव से पहले रालोसपा को झटका लगा है. पार्टी नेता नागमणि ने रविवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देते हुए पार्टी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा पर लोकसभा टिकट बेचने का आरोप लगाया. नागमणि को दो दिन पहले राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष पद से हटा दिया गया था. नागमणि ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘मैं पत्रकारों के सामने इस्तीफे की घोषणा कर रहा हूं, क्योंकि रालोसपा ने मुझे शीर्ष पद से हटाने का पत्र मुहैया कराने का शिष्टाचार नहीं निभाया, जिसकी सामग्री के बारे में मुझे मीडिया के जरिये पता चला.’

पार्टी का फैसला अनुचित

ज्ञात हो कि नागमणि को पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के लिए राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष पद से हटा दिया गया था. हालांकि, नागमणि ने इसपर सवाल किया, ‘‘पार्टी ने कहा कि उन कार्यक्रमों में मेरा मौजूद रहना अनुशासनहीनता थी जिसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मौजूद थे. दोनों कार्यक्रम मेरे पिता जगदेव प्रसाद की याद में आयोजित किये गए थे, जिन्हें कुशवाहा समुदाय द्वारा एक महान नेता के तौर पर देखा जाता है. ऐसी पृष्ठभूमि में क्या मुझ पर पार्टी विरोधी गतिविधि में शामिल होने के आरोप लगाये जा सकते हैं.’’

hosp3

अध्यक्ष पर टिकट बेचने का आरोप

तत्कालीन अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे नागमणि ने यह भी आरोप लगाया कि उपेंद्र कुशवाहा और उनके करीबी उनसे नाराज थे क्योंकि वह मोतिहारी से पार्टी टिकट माधव आनंद को देने का मुद्दा सात फरवरी से उठा रहे थे, जो मधुबनी के रहने वाले हैं और दिल्ली में रहते हैं. झारखंड के चतरा से टिकट की आकांक्षा रखने वाले नागमणि ने कहा, ‘मैंने उनसे कहा कि पार्टी के इस निर्णय को लेकर मोतिहारी में काफी असंतोष है.’

उन्होंने आरोप लगाया कि कुशवाहा ने यह कहते हुए उन्हें चुप कराने का प्रयास किया कि आनंद ने पार्टी के लिए नौ करोड़ रुपये दिलाने में अपने कोरपोरेट संबंधों का इस्तेमाल किया.

नौटंकीबाज हैं उपेंद्र कुशवाहा- नागमणि

रालोसपा की इस दलील के बारे में पूछे जाने पर कि ऐसे में उन्हें नीतीश कुमार के साथ देखा जाना अस्वीकार्य है, जब पार्टी मुख्यमंत्री पर दो फरवरी को लाठीचार्ज में कुशवाहा को मारने का षड्यंत्र रचने का आरोप लगा रही है, नागमणि ने कहा कि ‘‘कुशवाहा एक बड़े ‘नौटंकीबाज’ हैं. शरीर पर एक भी चोट लगे बिना वह अस्पताल में दो दिन तक रहे.

हालांकि, नागमणि के आरोपों पर यहां स्थित रालोसपा कार्यालय ने एक विज्ञप्ति जारी करके मोतिहारी लोकसभा सीट के बारे में उनके दावों को खारिज किया.

जानें आखिर क्यों अनशन पर बैठे हैं चंद्रबाबू नायडू

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: