न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आलोक वर्मा के फैसले को नागेश्वर राव ने बदलाः तबादले संबंधी 8 जनवरी वाली स्थिति बहाल

1,869

New Delhi: सीबीआई में जारी उठापटक के बीच अंतरिम सीबीआई निदेशक एम नागेश्वर राव ने पूर्व निदेशक आलोक वर्मा के फैसले को पलट दिया है. वर्मा द्वारा किए गए तबादलों संबंधी फैसले को रद्द करते हुए अधिकारियों की आठ जनवरी वाली स्थिति बहाल कर दी है. राव ने शुक्रवार को जारी नए आदेश में घोषणा की कि वर्मा द्वारा दिए गए आदेश ‘अस्तिव में नहीं हैं’.

8 जनवरी 2019 की स्थिति बहाल

‘पीटीआई’ के पास उपलब्ध आदेश में कहा गया, ‘‘… और परिणामस्वरूप सभी संबद्धों द्वारा इस संबंध में लिए गए सभी कदमों को अमान्य घोषित किया जाता है. दूसरे शब्दों में, आठ जनवरी 2019 की स्थिति बहाल की जाती है.’’

उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने आलोक वर्मा को जबरन छुट्टी पर भेजे जाने के आदेश को मंगलवार को रद्द कर दिया था. जिसके बाद वर्मा ने बुधवार को ड्यूटी ज्वाइंन करते ही प्रभारी निदेशक नागेश्वर राव द्वारा किए गए सभी तबादले रद्द कर दिए थे. उन्होंने विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ मामले की जांच के लिए एक नया जांच अधिकारी भी नियुक्त किया था.

सेलेक्ट कमेटी ने वर्मा का किया तबादला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, न्यायमूर्ति ए के सीकरी और लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे की सदस्यता वाली उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने वर्मा का सीबीआई से बृहस्पतिवार को तबादला कर दिया था. सरकार ने अतिरिक्त निदेशक नागेश्वर राव को एजेंसी का प्रभार सौंपा. वर्मा और अस्थाना को जबरन छुट्टी पर भेजे जाने के दौरान भी राव ने 77 दिनों तक प्रभार संभाला था.

उच्चतम न्यायालय ने राव को कोई भी बड़ा नीतिगत निर्णय लेने से रोक दिया था लेकिन इस बार उनके कार्यकाल में ऐसी कोई शर्त नहीं है. एक सीबीआई प्रवक्ता ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि राव ने बृहस्पतिवार नौ बजे एजेंसी का कार्यभार संभाला.

इसे भी पढ़ेंः दिल्ली हाईकोर्ट से राकेश अस्थाना को झटका, प्राथमिकी रद्द करने की याचिका खारिज

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: