न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

राजधानी में हर दूसरे दिन हो रही हत्या, दुष्कर्म के बाद हत्या की घटनाओं में वृद्धि

102

Ranchi : राजधानी में हत्या की घटनाओं में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. यह सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है.  झारखंड पुलिस के आंकड़े के अनुसार जहां राजधानी रांची में पिछले एक महीने के दौरान 18 हत्याएं हुई.

mi banner add

यानी कि हर दो दिन में एक हत्या हो रही है. वहीं पिछले एक महीने में दुष्कर्म के बाद हत्या की घटनाओं में वृद्धि हुई है. गौरतलब है कि इस एक महीने में दुष्कर्म के बाद हत्या की तीन घटनाएं घटी.

एक महीने में दुष्कर्म की 14 घटनाएं

आंकड़े के मुताबिक 14 दुष्कर्म की घटनाएं घटी. जिसमें तीन दुष्कर्म की घटनाएं ऐसी थी जिसमें दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गयी. कांके, सोनहातू और जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र की ये तीन घटनाएं हैं.

सोनहातू में नाबालिक लड़की के साथ दुष्कर्म कर हत्या करने के मामले में पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है. वही कांके और जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र में हुए दुष्कर्म के बाद हत्या में पुलिस अब तक आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है.

इसे भी पढ़ेंः2019 के 31 मार्च तक सिंचाई परियोजनाओं पर खर्च हुए 4114.45 करोड़, फिर भी खेतों में नहीं पहुंचा पानी

जमीन विवाद को लेकर होती है सबसे ज्यादा हत्याएं

झारखंड बनने के बाद राजधानी रांची सहित कई बड़े शहरों में जमीन की कीमत काफी बढ़ी है. जैसे-जैसे जमीन की कीमत आसमान छूने लगी, वैसे-वैसे ही इस धंधे में अपराधियों ने भी पांव पसारना शुरू कर दिया.

सफेदपोश जमीन माफियाओं ने इस धंधे में सीधे न उतरकर अपने-अपने इलाके के कुख्यात अपराधियों को मोटी रकम देकर सपोर्ट लेना शुरू कर दिया. संपत्ति विवाद में होनेवाली कुल हत्याओं में आधे से अधिक जमीन विवाद के कारण होती हैं.

इनमें जमीन कारोबारी, जमीन की दलाली करनेवाले, खरीददार और बिक्री करनेवालों के अलावा परिवार के सदस्यों द्वारा की गयी हत्याएं भी शामिल हैं. हालांकि पुलिस के अनुसार झारखंड में अधिकांश हत्याएं छोटे-छोटे विवादों की वजह से भी होती हैं.

इसे भी पढ़ेंःअग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांडः मुख्य आरोपी लोकेश चौधरी भगोड़ा घोषित

थम नहीं रही हत्या की घटनाएं

रांची में हत्या की घटनाएं थम नहीं रही हैं. हर दूसरे दिन हत्या की एक घटना देखने को मिल ही जाती है. इस महीने हुई कुछ घटनाएं इस बात को प्रमाणित करती हैं कि हत्या की घटनाओं में कितना इजाफा हुआ है. 19 अप्रैल को नगड़ी थाना क्षेत्र के सपारोम पंचायत के मुखिया प्रकाश तिग्गा की गोली मार कर हत्या कर दी गई. 23 अप्रैल को ओबेरिया के रहने वाले संदीप दुबे की हत्या कर दी गई थी.

वहीं कुछ ऐसी घटनाएं भी हैं जिसमें हत्या के इरादे से गोली मारी गयी. लेकिन पीड़ित घायल हो गया. जैसे कि 24 अप्रैल को हटिया स्टेशन के पास संतोष कुमार नाम के व्यक्ति को अपराधियों ने गोली मार कर घायल कर दिया. 27 अप्रैल को सपना समिति के सदस्य प्रदीप तिर्की को भी अपराधियों ने गोली मारकर घायल कर दिया.

30 अप्रैल को धुर्वा थाना क्षेत्र के धुर्वा डैम के पास अज्ञात लड़की की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. इन सभी मामलों में आरोपी अभी तक पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं.

इसे भी पढ़ेंःश्रम विभाग : एडवाइजरी कमेटी की बैठक महज खानापूर्ति, ना प्रोसिडिंग और ना कार्रवाई ही हुई

दुष्कर्म के बाद हत्या की कुछ घटनाएं

19 मार्च 2019 राहे ओपी क्षेत्र के डिगुरुडीह गांव में एक 16 वर्षीय नाबालिग लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद रस्सी से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी गई थी. इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए चार आरोपी को गिरफ्तार किया था.

नौअप्रैल कांके थाना क्षेत्र में एक बंद पड़े बिजली बोर्ड के पुराने पावर हाउस के अंदर 50 वर्षीय महिला की दुष्कर्म के बाद गला रेत कर हत्या कर दी गई थी.

16 अप्रैल जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के शहीद मैदान के पास नाले से एक अज्ञात महिला का शव बरामद किया गया था. इस मामले में बताया गया था कि आरोपियों ने युवती के साथ दुष्कर्म करने के बाद उसकी हत्या कर दी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: