न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हत्या की एक गुत्थी सुलझ भी नहीं पाती, हो जाता है दूसरा मर्डर, एक महीने में डोरंडा में तीन कत्ल

1,849

Ranchi: राजधानी रांची की पुलिस एक हत्या की गुत्थी सुलझा नहीं पाती है, तब तक दूसरी हत्या हो जा रही है. ये हाल है डोरंडा थाना का जहां नहीं थम रहा हत्या का सिलसिला.पिछले एक महीने के आकड़े को देखे तो इस दौरान डोरंडा थाना क्षेत्र में जहां 3 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई है. वहीं एक को गोली मार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया है. एक महीने जितनी भी हत्याएं हुई हैं, उसमें से अधिक हत्या जमीन विवाद को लेकर की गई है.

जमीन विवाद में हत्या

डोरंडा थाना क्षेत्र के बड़ा घाघरा में सबसे अधिक जमीन विवाद को लेकर हत्याएं हो रही है. डोरंडा बड़ा घाघरा में जमीन की खरीद बिक्री का खेल जोरशोर से चल रहा है. इसमें कई जमीन माफिया और अपराधियों की मिलीभगत से जमीन का कारोबार तेजी से फल-फूल रहा है.

राजधानी रांची के पिठोरिया, नामकुम, कांके, नगड़ी, पुंदाग, जगन्नाथपुर, रातू और धुर्वा में जमीन से जुड़े मामलों की तादाद ज्यादा है. पुलिस के वरीय अधिकारियों के द्वारा इन इलाकों में थाना स्तर पर विशेष दिशा निर्देश भी दिए गए हैं. इसके बाबजूद भी राजधानी में जमीन की विवाद में हत्या होने का सिलसिला जारी है.

हत्याकांड का खुलासा करने में पुलिस विफल

पिछले एक महीने के दौरान डोरंडा थाना क्षेत्र में हुई हत्याओं में से किसी भी हत्याकांड का खुलासा करने में पुलिस सफल नहीं रही है.

silk

पिछले एक महीने में डोरंडा थाना क्षेत्र में हुई हत्याएं

9 दिसंबर 2018- डोरंडा थाना क्षेत्र के बड़ा घाघरा में अपराधियों ने अमित टोप्पो नामक युवक की गोली मार कर हत्या कर दी. सुबह अमित का शव मिला था. खूंटी के तोरपा निवासी अमित टोप्पो पूर्व में एक न्यूज पोर्टल में पत्रकार रह चुका था. बाद में अमित ओला कैब चलाने का काम करता था. इस मामले में पुलिस अभी तक किसी भी अपराधियों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है.

29 दिसंबर 2018- बड़ा घाघरा में जमीन कारोबारी अरुण किस्पोट्टा की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. उनकी पत्नी ने 5 अपराधियों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई थी, लेकिन पुलिस अभी तक एक भी अपराधी को गिरफ्तार नहीं कर पाई है.

8 जनवरी 2019- डोरंडा थाना क्षेत्र के घाघरा में अज्ञात अपराधियों ने ग्रामसभा के सचिव शंकर सुरेश के दोस्त सामू की गोली मार कर हत्या दी. वहीं अपराधी के द्वारा गोलीबारी में शंकर सुरेश गंभीर रूप से घायल हो गए है.

इसे भी पढ़ेंः सरयू बोले पणिक्कर कंबल घोटाला को लेकर जांच के लिए हुईं थीं तैयार, इसी शर्त पर गया था खूंटी, पणिक्कर ने कहा-हां, हो निष्पक्ष जांच

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: