न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राज्य के शहरी इलाकों में अब नगर निगम और स्थानीय निकाय संभालेंगे जलापूर्ति व्यवस्था

983
  • रांची समेत अन्य इलाकों में जलाशयों के ट्रीटमेंट प्लांट और जलापूर्ति का जिम्मा निजी हाथों में देने की प्रक्रिया शुरू.
  • सिर्फ ग्रामीण जलापूर्ति योजनाओं का क्रियान्वयन और रखरखाव करेगा पेयजल स्वच्छता विभाग.
mi banner add

Deepak

Ranchi : राज्य के शहरी इलाकों में जलापूर्ति व्यवस्था का कामकाज अब नगर निगम और स्थानीय निकायों के जिम्मे होगा. शहरी इलाकों के जलाशय, उसके ट्रीटमेंट प्लांट और पाइपलाइन का रख-रखाव अब थर्ड पार्टी एजेंसी करेगी. इसकी शुरुआत कर दी गयी है.

राजधानी रांची के तीनों जलाशयों के वाटर ट्रीटमेंट प्लांट को थर्ड पार्टी के हाथों सौंपने के लिए चयन प्रक्रिया भी शुरू कर दी गयी है. जानकारी के अनुसार गोंदा जलाशय के 19.54 मिलियन लीटर पानी प्रति दिन के ट्रीटमेंट प्लांट का रखरखाव और उसके ऑपरेशन का काम जल्द ही निजी हाथों में सौंप दिया जायेगा.

सरकार की तरफ से निजी कंपनी को इसके लिए 1.72 करोड़ रुपये दिये जायेंगे. इसमें प्लांट के सभी तरह के काम, जलाशयों को साफ करने, डैम के गेट की सफाई, रॉ वाटर का ट्रीटमेंट, पानी की आपूर्ति संबंधित वार्डों में करने और आपूर्ति की गयी पानी की मीटरिंग का काम शामिल है.

इसे भी पढ़ें- जी-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने जापान पहुंचे PM, लगे मोदी-मोदी के नारे

2019-20 में शहरों में जलापूर्ति व्यवस्था का काम थर्ड पार्टी को दे दिया जायेगा

Related Posts

बेरमो : खेतको में दामोदर नदी के घाट से बालू का अवैध उठाव जारी

प्रतिदिन पचासो की संख्या में टैक्टरों से बालू का उठाव किया जा रहा है.

इस वित्तीय वर्ष (2019-20) में सभी शहरों की जलापूर्ति व्यवस्था थर्ड पार्टी को सुनिश्चित कर दी जायेगी. रांची में तीन जलाशय हैं, जिससे शहरी आबादी को पीने का पानी दिया जाता है. अगले चरण में हटिया डैम और रूक्का डैम के प्लांट भी निजी हाथों में सौंप दिये जायेंगे.

राज्य भर में तिलैया, धनबाद, आदित्यपुर, मानगो, जुगसलाई, चास, देवघर, दुमका, चक्रधरपुर, लोहरदगा, हजारीबाग, गुमला, गिरिडीह, पलामू, खूंटी समेत अन्य जगहों पर शहरी जलापूर्ति व्यवस्था का काम अब तक पेयजल और स्वच्छता विभाग देखती रही है. पेयजल और स्वच्छता विभाग के निविदा आमंत्रित कर कंपनी का चयन करने का दायित्व दिया गया है.

इसे भी पढ़ें- बिहार : गर्मी के बाद आकाशीय बिजली का कहर, 10 की मौत

नगर निगम और निकाय देखेंगे काम

अब शहरी जलापूर्ति का सारा काम नगर निगम और स्थानीय निकाय संभालेंगे. नगर निगम ही जलापूर्ति व्यवस्था सुनिश्चित करेगी. इसमें पानी का कनेक्शन दिये जाने से लेकर जल टैक्स की वसूली तक का काम शामिल है. पेयजल और स्वच्छता विभाग ग्रामीण जलापूर्ति योजनाओं के क्रियान्वयन और उसके रख-रखाव का कामकाज देखेगी.

इसे भी पढ़ें- लातेहार : गर्भवती महिला को नहीं मिला एंबुलेंस, बेहोशी की हालत में बाइक से लाया गया अस्पताल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: