न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

स्लॉटर हाउस से ‘हलाल’ मटन मिले, यह सुनिश्चित करायें नगर आयुक्त : एस अली

222

Ranchi : कुछ दिनों पहले नगर आयुक्त ने शहर के मांस विक्रेताओं को निर्देश दिया था कि वे रांची नगर निगम द्वारा कांके में बनाये गये स्लॉटर हाउस में काटे गये बकरे-खस्सी का ही मांस बेचें. नगर आयुक्त मनोज कुमार के इस निर्देश पर लोगों ने आपत्ति जतानी शुरू कर दी है. मुस्लिम समाज से जुड़े संगठन के लोगों का कहना है कि मुस्लिम समाज में जानवर को हलाल करने का इस्लामिक तरीका होता है. नगर आयुक्त के निर्देश में यह स्पष्ट नहीं है कि स्लॉटर हाउस के माध्यम से मिलनेवाले बकरे-खस्सी का मांस काटकर (झटका) दिया जायेगा या जब्हा (हलाल) करके.

इसे भी पढ़ें- रघुवर सरकार राज्य स्थापना दिवस समारोह के नाम पर करोड़ों रुपये बर्बाद करने का कर रही खेल : AAP

नगर आयुक्त ने दिया था निर्देश

मालूम हो कि कुछ दिन पहले निगम में हुई बैठक में नगर आयुक्त ने शहर के सभी मांस विक्रेताओं को निर्देश देते हुए कहा था कि निगम क्षेत्र के मटन विक्रेताओं को 18 अक्टूबर से कांके स्थित स्लॉटर हाउस में काटे गये खस्सी और बकरे का ही मांस बेचना होगा. ऐसा नहीं करनेवालों के विरुद्ध निगम कार्रवाई करेगा. साथ ही जानवर का मांस जब्त कर लिया जायेगा. वहीं, मांस बेचनेवाले दुकानदार पर अधिनियम के तहत 2000 रुपये का जुर्माना लगाया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- लंबी-लंबी तारीख देकर RTI कार्यकर्ताओं को परेशान कर रहा सूचना आयोग : इंदू देवी

नियम विरुद्ध है नगर आयुक्त का निर्देश : एस अली

ऑल मुस्लिम यूथ एसोसिएशन (आमया) संगठन के अध्यक्ष एस. अली ने नगर आयुक्त को पत्र लिखा है. पत्र में उन्होंने कहा है कि रांची नगर निगम द्वारा संचालित स्लॉटर हाउस में कटे खस्सी/बकरे के मांस को हाईजीनिक तरीके से रांची के सभी दुकानदारों को बेचने का निर्देश दिया गया है, जो बिल्कुल अनुचित एवं नियम विरुद्ध है. रांची के निवासी सब्जी, फल एवं दूध की तरह ही ताजा मांस दुकानों से खरीदकर खाना पंसद करते हैं. एस अली ने कहा है कि देश के सभी राज्यों में स्लॉटरिंग करने की नियमावली है और उसी अनुसार खस्सी-बकरे और अन्य जानवरों का मांस स्लॉटर हाउस द्वारा उपलब्ध कराया जाता है. लेकिन, रांची नगर निगम द्वारा संचालित स्लॉटर हाउस के माध्यम से मिलनेवाला जानवरों का मांस काटकर (झटका) या जब्हा (हलाल) करके दिया जायेगा, यह स्पष्ट नहीं है.

इसे भी पढ़ें- पेयजल और स्वच्छता विभाग में हो रहा है स्क्रैप बेचने के नाम पर घोटाला

ताजा और हलाल मांस उपलब्ध कराने की मांग

पत्र में एस अली ने कहा है कि मुस्लिम समुदाय द्वारा खस्सी-बकरे का हलाल मांस ही दुकानों से खरीदकर खाया जाता है. जानवरों को हलाल करने का इस्लामिक तरीका होता है, जिसको प्रमाणित धार्मिक आलिम या मुफ्ती द्वारा किया जाता है. इसलिए रांची नगर निगम द्वारा संचालित स्लॉटर हाउस के माध्यम से दुकानदारों को खस्सी-बकरे का ताजा के साथ-साथ हलाल मांस उपलब्ध कराया जाये.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: