न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#MukeshAmbani’s #RIL दो वर्षों में 200 अरब डॉलर मार्केट कैप वाली पहली भारतीय कंपनी बन सकती है  

अमेरिकी बैंक मेरिल लिंच ने बुधवार को यह बात कही. रिलायंस द्वारा रिटेल और ब्रॉडबैंड जैसे कारोबार में कदम रखने के बाद यह बढ़ोतरी दिख सकती है.

63

NewDelhi : रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड अगले 24 महीनों में 200 अरब डॉलर मार्केट कैपिटलाइजेशन वाली पहली भारतीय कंपनी बन सकती है. अमेरिकी बैंक मेरिल लिंच ने बुधवार को यह बात कही. रिलायंस द्वारा रिटेल और ब्रॉडबैंड जैसे कारोबार में कदम रखने के बाद यह बढ़ोतरी दिख सकती है.

ब्रोकरेज ने रिपोर्ट में कहा कि मौजूदा 122 अरब डॉलर के मार्केट कैप से 200 अरब डॉलर तक पहुंचने के लिए असंगठित किराना स्टोर्स में मोबाइल पॉइंट ऑफ सेल (M-PoS) लगाकर रिटेल कारोबार पर पकड़, माइक्रोसॉफ्ट के साथ एसएमई सेक्टर में एंट्री और जियो फाइबर ब्रॉडबैंड कारोबार की अहम भूमिका होगी.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें : #BSNL4G: बीएसएनएल भी शुरू करेगा 4जी सेवा, कई सर्किल में की जा रही है टेस्टिंग

Related Posts

#Delhi_ Violence : जांच के लिए दो एसआइटी का गठन,  आप पार्षद ताहिर हुसैन पर एफआइआर दर्ज, फैक्ट्री सील

दिल्ली हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है.  दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के तहत दो एसआईटी का गठन किया गया है.

 RIL भारत की सबसे बड़ी पेट्रोकेमिकल और दूसरी सबसे बड़ी ऑइल रिफाइनिंग कंपनी  

रिपोर्ट में कहा गया है कि मुकेश अंबानी की कंपनी को टेलिकॉम कारोबार में प्रति मोबाइल फोन यूजर से मिलने वाला रेवेन्यू वित्त वर्ष 2022 तक मौजूदा 151 रुपये से बढ़कर 177 रुपये हो जायेगा. एक करोड़ किराना स्टोर्स कंपनी को M-PoS इस्टॉल करने के लिए प्रतिमाह 750 रुपये का भुगतान करेंगे. 2 साल में ब्रॉडबैंक यूजर्स की संख्या 1.20 करोड़ हो सकती है, इनमें से 60 फीसदी प्रतिमाह औसतन 840 रुपये देंगे.

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड भारत की सबसे बड़ी पेट्रोकेमिकल और दूसरी सबसे बड़ी ऑइल रिफाइनिंग कंपनी है. इसने टेलिकॉम, कंज्यूमर रिटेल और मीडिया कारोबार में भी बड़ा निवेश किया है. इसकी टेलिकॉम सब्सिडियरी, जियो ने बड़ी संख्या में ग्राहक जुटाये हैं जो अब कंपनी को अच्छा राजस्व दे रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : निर्मला सीतारमण ने कहा- निवेश के लिए भारत से अच्छा कोई स्थान नहीं, सुधार के लिए प्रयासरत सरकार 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like