NEWS

सांसद ने हज़ारीबाग झील व बिजुलिया तालाब के सौंदर्यीकरण के लिए सीएसआर सहयोग का किया आग्रह

जनता को हर सुविधा मिले इसके लिये उठा रहे हैं अनेक कदम: सांसद जयंत सिन्हा

Hazaribag: हज़ारीबाग सांसद सह अध्यक्ष वित्त संबंधी संसदीय स्थायी समिति जयंत सिन्हा ने सी.सी.एल. के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक पी.एम. प्रसाद व कोल इंडिया लिमिटेड के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक प्रमोद अग्रवाल से मुलाकात कर हज़ारीबाग एवं रामगढ़ की विभिन्न परियोजनाओं पर चर्चा की. साथ ही तीन अतिमहत्वपूर्ण परियोजनाओं के विकास हेतु सीएसआर सहयोग देने का आग्रह किया भी किया.

पत्र के माध्यम से आग्रह करते हुए उनके समक्ष क्षेत्र की तीन परियोजनाएं रखीं जिनमें सहयोग की आवश्यकता है, जिसमें कहा गया है कि हज़ारीबाग झील पर्यटन की दृष्टि से हज़ारीबाग वासियों के लिये एक प्रमुख स्थान है. क्षेत्र के सैकड़ों लोग प्रतिदिन यहां भ्रमण करने आते हैं. क्षेत्रवासी चाहते हैं कि इस झील का सौंदर्यीकरण एवं विकास हो. वहीं बिजुलिया तालाब रामगढ़ के निवासियों के लिये उपयोगी जलीय स्त्रोत है, साथ ही पर्यटन की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है. क्षेत्रवासियों की अपेक्षा है कि इस तालाब का सौंदर्यीकरण कर इसका रचनात्मक विकास हो और इसे एक नया रूप दिया जाए.

advt

इसे भी पढ़ें : अमेरिका ने कृषि कानूनों पर मोदी सरकार का किया समर्थन, शांतिपूर्ण विरोध को लोकतंत्र की बानगी बताया

जबकि रामगढ़ क्षेत्र की पांच सड़कों को मरम्मत की आवश्यकता है. जर्जर स्थिति के कारण इन सड़कों पर आवागमन बाधित होता है और यातायात में परेशानी आती है. यात्रियों की सुरक्षा की दृष्टि से भी यह हानिकारक है.

इन सड़कों की हालत खराब

  • मतकमा चौक से भाया ग्राम लादी, चिकोर, सूदी, अरमादाग, कोड़ी, दाड़ीदाग एवं ग्राम कडरु तक पथ का निर्माण (18 किमी लगभग)
  • ग्राम पाली से भाया सांकी, जुमरा, खपिया, कोड़ी बाज़ार तक पथ का निर्माण (7 किमी लगभग)
  • गांधी चौक से भाया भोक्ताथान, ओरियातु, सालगो होते हुए ग्राम किन्नी तक पथ का निर्माण (10 किमी लगभग)
  • भोक्ताथान से ग्राम चिट्टों, अमझरिया होते हुए ग्राम लोवाडीह तक पथ का निर्माण (8 किमी लगभग)
  • ग्राम हरिहरपुर पतरातू मुख्य सड़क से ग्राम सुथरपुर तक पथ का निर्माण (16 किमी लगभग)

पत्र के माध्यम से उन्होंने आग्रह किया कि सीएसआर मद से इन पर आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करने की कृपा करें. इन परियोजनाओं पर अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशकों ने कहा कि वे हर संभव सहयोग सुनिश्चित करवाएंगे. जयंत सिन्हा ने कहा कि संसदीय क्षेत्र के निवासियों को हर सुविधा मिले इसके लिये विभिन्न कदम उठा रहा हूं.

इसे भी पढ़ें- रांची विश्वविद्यालय के नये चार कॉलेजों में एडमिशन शुरू, 15 तक करें आवेदन

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: