OFFBEAT

प्रेरक स्टोरी : पिता 15 वर्षो से ऑटो चलाकर खींच रहे थे परिवार की गाड़ी, बेटा बना सेल्स टैक्स कमिश्नर

Dhanbad: कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं हो सकता एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो. ये पंक्तियां जैसे धनबाद के रहने वाले ऑटो चालक के बेटे रवि रंजन के लिए लिखी गयी हैं. रवि रंजन ने विपरीत परिस्थितयों में पढ़ाई जारी रखते हुए इस साल आईबीपीएस पास कर ली. रिजल्ट आने के बाद से धनबाद रेलवे स्टेशन के पास के इलाके में ऑटो चलाने वाले रामचंद्र साव काफी खुश हैं. रामचंद्र बेटे के सेल्स टैक्स कमिश्नर बन जाने पर काफी गर्व महसूस कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- खुले बाजार में 1000 रुपये से अधिक होगी कोरोना वैक्सीन की कीमत, अदार पूनावाला का खुलासा

साथी ऑटो चालकों में बांटी मिठाई

ram janam hospital
Catalyst IAS

रामचंद्र ने बताया कि बेटे की नौकरी लगने की सूचना मिलने के बाद धनबाद रेलवे स्टेशन पर पहुंचे. इसके बाद रामचंद्र साव ने अपने साथी ऑटो चालकों को मिठाई बांटी. मौके पर रवि रंजन का भाई भी मौजूद रहा. वो भी इस खबर के सूनने के बाद वह भी काफी खुश था. राहुल ने भी अपने भाई के नक्शे कदम पर चलकर आगे बढ़कर अपना मुकाम पाने का फैसला लिया.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

15 वर्षो से पिता चला रहे थे ऑटो

रामचंद्र साव से बात करने पर उन्होंने बताया कि उन्होंने काफी मेहनत करके बेटे को पढ़ाया है. उन्होंने कहा कि पिछले 15 वर्षो से वे ऑटो चलाकर परिवार की गाड़ी खींच रहे हैं. उन्होंने कहा कि उन्हें बेटे से काफी उम्मीदें थी. भगवान ने उनकी फरियाद सुन ली. उन्होंने बताया कि उनका बेटा रवि रंजन कुमार बिहार के बेतिया में सहायक सेल टैक्स कमिश्नर के रूप में पोस्टेड हो गया है.

इसे भी पढ़ें- वाह रे सिस्टम : कोरोना वैक्सीन लेने वालों की लिस्ट में मृत डॉक्टरों और नर्सों के भी नाम

Related Articles

Back to top button