OFFBEAT

प्रेरक स्टोरी : पिता 15 वर्षो से ऑटो चलाकर खींच रहे थे परिवार की गाड़ी, बेटा बना सेल्स टैक्स कमिश्नर

Dhanbad: कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं हो सकता एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो. ये पंक्तियां जैसे धनबाद के रहने वाले ऑटो चालक के बेटे रवि रंजन के लिए लिखी गयी हैं. रवि रंजन ने विपरीत परिस्थितयों में पढ़ाई जारी रखते हुए इस साल आईबीपीएस पास कर ली. रिजल्ट आने के बाद से धनबाद रेलवे स्टेशन के पास के इलाके में ऑटो चलाने वाले रामचंद्र साव काफी खुश हैं. रामचंद्र बेटे के सेल्स टैक्स कमिश्नर बन जाने पर काफी गर्व महसूस कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- खुले बाजार में 1000 रुपये से अधिक होगी कोरोना वैक्सीन की कीमत, अदार पूनावाला का खुलासा

साथी ऑटो चालकों में बांटी मिठाई

रामचंद्र ने बताया कि बेटे की नौकरी लगने की सूचना मिलने के बाद धनबाद रेलवे स्टेशन पर पहुंचे. इसके बाद रामचंद्र साव ने अपने साथी ऑटो चालकों को मिठाई बांटी. मौके पर रवि रंजन का भाई भी मौजूद रहा. वो भी इस खबर के सूनने के बाद वह भी काफी खुश था. राहुल ने भी अपने भाई के नक्शे कदम पर चलकर आगे बढ़कर अपना मुकाम पाने का फैसला लिया.

15 वर्षो से पिता चला रहे थे ऑटो

रामचंद्र साव से बात करने पर उन्होंने बताया कि उन्होंने काफी मेहनत करके बेटे को पढ़ाया है. उन्होंने कहा कि पिछले 15 वर्षो से वे ऑटो चलाकर परिवार की गाड़ी खींच रहे हैं. उन्होंने कहा कि उन्हें बेटे से काफी उम्मीदें थी. भगवान ने उनकी फरियाद सुन ली. उन्होंने बताया कि उनका बेटा रवि रंजन कुमार बिहार के बेतिया में सहायक सेल टैक्स कमिश्नर के रूप में पोस्टेड हो गया है.

इसे भी पढ़ें- वाह रे सिस्टम : कोरोना वैक्सीन लेने वालों की लिस्ट में मृत डॉक्टरों और नर्सों के भी नाम

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: