न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शिशु को शुरुआती छह महीने तक अपना दूध जरूर पिलायें माताएं : हेमा

214

Dhanbad : धनबाद में एक सितंबर से पोषण माह प्रारंभ हो चुका है. इसके तहत धनबाद के कई  ग्रामीण इलाकों में इस योजना के तहत कार्यक्रम चलाया जा रहा है, जिसमें आमजनों को पोषण के बारे में जागरूक किया जा रहा है. शनिवार को बलियापुर और सिन्दूरपुर जैसे गांवों में आयोजित परिचर्चा में सैकड़ों महिलाओं ने भाग लिया और बच्चों से जुड़ी ऐसी कई बातों को समझाया, जो बच्चों के विकास के लिए लाभदायक होंगी.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- पालो टूटी, रेस व चंचल की भूख से मौत मामले की सीबीआई जांच हो: बंधु तिर्की

मां का पहला पीला गाढ़ा दूध बच्चे का पहला टीका

शिशु को शुरुआती छह महीने तक अपना दूध जरूर पिलायें माताएं : हेमा

मां का पहला पीला गाढ़ा दूध बच्चे का पहला टीका होता है. शिशु को शुरुआती छह माह तक मां को सिर्फ अपना ही दूध पिलाना चाहिए. उक्त बातें जिला समाज कल्याण पदाधिकारी हेमा प्रसाद ने पोषण माह के तहत बलियापुर और सिन्दूरपुर आंगनबाड़ी केंद्र में आयोजित पोषण परिचर्चा कार्यक्रम में कहीं. जिला समाज कल्याण पदाधिकारी ने बताया कि एक सितंबर से लेकर 30 सितंबर 2018 तक पोषण माह मनाया जाता है. एक सितंबर से 7 सितंबर 2018 तक प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना मनायी गयी. इसमें विभिन्न तरह की गतिविधियों का आयोजन किया गया, जिसमें आंगनबाड़ी केंद्र पर पोषण परिचर्चा कार्यक्रम, आंगनबाड़ी केंद्रों में सभी बच्चों का वजन लिया गया एवं लंबाई मापी गयी. उन्होंने बताया कि पोषण आहार की प्रदर्शनी, पोषण रैली इत्यादि का आयोजन भी किया गया.

इसे भी पढ़ें- सिर्फ 28 हजार के लिए बेकार पड़ी है रिम्स की छह लाख रुपए की मैमोग्राफी मशीन

गर्ववती महिलाओं को दिये गये उचित दिशा-निर्देश

पोषण परिचर्चा में उन्होंने गर्भवती महिलाओं को बताया कि वे रोजाना आयरन और विटामिनयुक्त पोषक आहार लें. साथ में पौष्टिक दूध और आयोडीनयुक्त नमक का भी सेवन करें. कैल्शियम की निर्धारित खुराक लें तथा शुद्ध पेयजल का उपयोग करें. धातृ महिलाओं से उन्होंने कहा कि प्रसव से लेकर छह माह तक रोजाना आईएफए की एक लाल गोली लें. माताएं नवजात शिशु को जन्म के एक घंटे के अंदर स्तनपान शुरू करायें तथा शिशु को अपना पहला पीला गाढ़ा दूध पिलायें. व्यक्तिगत एवं बच्चे की स्वच्छता का ख्याल रखें.  उन्होंने माताओं से कहा कि वह बच्चों को आंगनबाड़ी केंद्रों पर नियमित रूप से लायें और उनका वजन अवश्य करायें. पांच साल की उम्र तक सूची अनुसार सभी टीके नियमित रूप से लगायें.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: