Education & CareerJharkhandPalamu

दो बच्चों की मां ने 8 वर्ष तक संघर्ष कर पायी सफलता, एनआरएचएम में बनी डॉक्टर

Palamu : दो बच्चों की मां ने संघर्ष कर मुकाम पाया है. एनआरएचएम में डॉक्टर बनकर गांव, समाज और जिले का मान बढ़ाया है. 2014 में नामांकन लेने के बाद 2020 में आयुष डॉक्टर की पढ़ाई पूरी की. आज सिविल सर्जन कार्यालय में आयुष डॉक्टर के रूप में योगदान दिया.

हम बात कर रहे हैं जिले के उंटारी रोड प्रखंड मुख्यालय से महज तीन किलोमीटर दूर सतबहिनी गांव में रहने वाली नीतू कुमारी शर्मा की. नीतू ने अपने गांव के साथ ही प्रखंड की पहली बहू सिविल सर्जन कार्यालय में आयुष डॉक्टर बनकर चयन हुईं है, जिससे परिजनों के साथ साथ पूरा प्रखंड गौरवान्वित हो रहा है.

advt

इसे भी पढ़ें:सत्ताधारी पार्टी कार्यक्रमों में कोविड गाइडलाइंस की उड़ा रही धज्जियां : डॉ देवशरण भगत

उंटारी रोड के विधायक प्रतिनिधि सह डॉ श्रीमती शर्मा के ससुर अपने बहु की इस कामयाबी पर काफी खुश हैं.
डॉ नीतू कुमारी शर्मा ने भी ये श्रेय अपने परिजनों को दिया है.

प्रखंड क्षेत्र के सभी विद्यार्थियों को उन्होंने यह बताया कि अपनी लक्ष्य के साथ पढाई करें, आपकी सफलता अवश्य कदम चूमेगी. उन्होंने बताया कि डॉक्टर बनकर आम लोगों व गरीबों की सेवा करना ही उनका प्रथम लक्ष्य है.

इसे भी पढ़ें:कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने पर बीएनआर होटल के खिलाफ एफआइआर

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: