Lead NewsNationalTOP SLIDER

GOOD NEWS: SAIL के 70 हजार से अधिक कर्मियों को मिलेगा 26.05 प्रतिशत वेतन-भत्ता, एनजेसीएस में हुआ समझौता

सेल के ठेका मजदूरों के वेतन आवास भत्ता से जुड़े मसलों पर शीघ्र होगी दूसरी बैठक

New Delhi : स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (SAIL) के कर्मियों के वेतन-भत्ते में रिवीजन पर सहमति बन गयी है. गुरुवार देर रात नेशनल ज्वायंट कमेटी फॉर स्टील (एनजेसीएस) की कोर ग्रुप की बैठक में प्रबंधन कामगारों की यूनियनों के बीच समझौता हो गया.

नई दिल्ली के होटल अशोका में आयोजित बैठक में शामिल रहे हिंद मजदूर सभा (एचएमएस) के नेता राजेंद्र सिंह ने बताया कि नये समझौते के अनुसार सेल के सभी कर्मियों को 26.05 प्रतिशत पर्क्स् (वेतन-भत्ता) देने पर सहमति बनी है. इस समझौते से देश भर में सेल के विभिन्न प्लांटों इकाइयों में कार्यरत 70 हजार से ज्यादा कामगारों को छह से दस हजार रुपये तक का मासिक लाभ हो सकता है.

advt

बैठक में सेल के शीर्ष प्रबंधन के अधिकारियों के साथ विभिन्न मान्यता प्राप्त श्रमिक यूनियनों एटक, इंटक, एचएमएस, सीटू बीएमएस के प्रतिनिधि शामिल रहे. समझौते के बाद सेल प्रबंधन तीन श्रमिक यूनियनों एटक, इंटक, एचएमएस के प्रतिनिधियों ने एमओयू पर हस्ताक्षर कर दिया, जबकि दो यूनियनों सीटू बीएमएस ने 28 प्रतिशत से कम भत्ते पर असहमति जतायी है.

एचएमएस नेता राजेंद्र सिंह के अनुसार, सेल के कामगारों का वेतन पुनरीक्षण 1 जनवरी 2017 से ही लंबित था. यूनियनों की ओर से 30 प्रतिशत भत्ते की मांग की जा रही थी, लेकिन दोनों पक्षों के बीच काफी देर तक बहस विचार-विमर्श के बाद 26.05 प्रतिशत भत्ते के भुगतान पर प्रबंधन ने सहमति जता दी. प्रबंधन ने जनवरी 2020 से नये समझौते के अनुसार सभी कामगारों को एरियर देने पर भी सहमति जाहिर की है.
राजेंद्र सिंह ने बताया कि सेल के ठेका मजदूरों के वेतन आवास भत्ता से जुड़े मसलों पर शीघ्र ही दूसरी बैठक आयोजित की जायेगी.

इसे भी पढ़ें : बंदूक साफ करते क्वार्टर में सिपाही के सीने में लगी गोली, हालत गंभीर

संसद में भी उठा था मामला

बता दें कि सेल कर्मियों के लंबित पे-रिवीजन का मुद्दा पिछले दिनों संसद में भी उठा था. छत्तीसगढ़ के दुर्ग के सांसद विजय बघेल ने यह मुद्दा उठाते हुए कहा था कि सेल का पिछले तीन साल का लाभ 5 हजार करोड़ से अधिक है, लेकिन इसके बावजूद कर्मियों के वेतन-पुनरीक्षण पर निर्णय नहीं लिया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : 15वें वित्त आयोग का अनुदान पाने के लिए रांची सहित 50 शहरों का बेंचमार्क तय

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: