JharkhandLead NewsNEWSRanchi

कोरोना से झारखंड में 5000 से अधिक लोगों ने गंवाई जान, कांग्रेस ने कहा- सबको मिले मुआवजा

Ranchi: झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने केंद्र सरकार द्वारा कोरोना से जान गंवाने वालों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की आर्थिक सहायता से इनकार किये जाने को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है.

 

पार्टी प्रवक्ताओं ने कहा कि एक ओर केंद्र सरकार की गलत नीतियों और लापरवाह रवैये के कारण पूरे देश में कोरोना संक्रमण का फैलाव हो गया. वहीं, दूसरी ओर इलाज की समुचित व्यवस्था करने के बजाय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और तमाम केंद्रीय मंत्री कोरोना पर विजयी पा लेने के उत्सव में मदमस्त रहे, जिसके कारण इलाज की समुचित व्यवस्था नहीं हो पायी और देशभर में लाखों लोगों की जान चली गयी.

इसे भी पढ़ेंःjharkhandi_yuva_mange_rojgar अभियान कर रहा ट्रेंड, आधे घंटे में हुए 80 हजार से अधिक ट्विट

Catalyst IAS
ram janam hospital

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने कहा कि पार्टी के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी का यह कहना एकदम सही है कि जीवन की कीमत लगाना असंभव है. सरकारी मुआवजा सिर्फ एक छोटी सी सहायता होती है, लेकिन मोदी सरकार ये भी करने को तैयार नहीं है. कोविड महामारी में पहले इलाज की कमी और फिर झूठे आंकड़े और ऊपर से सरकार की क्रूरता,यही मोदी सरकार की सच्चाई है.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

इसे भी पढ़ेंःपूर्व विधायक अरुण मंडल का निधन, भाजपा ने जताया शोक

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता लाल किशोरनाथ शाहदेव ने कहा कि मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में शपथ पत्र देकर कहा कि केंद्र के पास कोरोना महामारी से मरने वालों व्यक्तियों के परिजनों को 4 लाख रुपये का मुआवजा देने का पैसा नहीं है. केंद्र सरकार के पास कोरोना पीड़ितों को मुआवजा देने के लिए पैसा नहीं है, लेकिन कोरोना के दौरान सेंट्रल विस्टा और प्रधानमंत्री के लिए एक भव्य महल बनवाने के लिए 20 हजार करोड़ रुपये है. वहीं, पेट्रोल और डीजल की लूट से साल 2020-21 में इकट्ठा किये गये 3 लाख 89 हजार 662 करोड़ रुपये कहां गया, यह भी देश की जनता को जानने का हक है.

इसे भी पढ़ेंःनक्सलियों के बिछाये गये प्रेशर बम विस्फोट से लोहरदगा में बुजुर्ग की मौत

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता राजेश गुप्ता छोटू ने कहा कि कोरोना संक्रमणकाल में एक ओर केंद्र सरकार की ओर से कोई सहायता नहीं मिल रही है. वहीं, राज्य सरकार अपने संसाधनों के माध्यम से कोरोना पीड़ित परिवारों की आर्थिक-सामाजिक स्थिति का आकलन कर आवश्यक सहायता उपलब्ध कराने और जरूरतमंद परिवारों को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने में जुटी है.

Related Articles

Back to top button