न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजधानी में संचालित हैं 10 हजार से ज्यादा हॉस्टल और लॉज, रजिस्टर्ड केवल 95

लाइसेंस के आवेदन के साथ बिल्डिंग का प्लान देना है जरूरी, संचालकों के पास बिल्डिंग प्लान ही नहीं  

1,155

Ranchi : रांची में 10 हजार से ज्यादा हॉस्टल और लॉज चल रहे हैं जिनमें 95 हॉस्टल और लॉज ही ऐसे है, जिनका रांची नगर निगम में रजिस्ट्रेशन है. यानी राजधानी में करीब 10 हजार हॉस्टल का संचालन अवैध रूप से किया जा रहा है.

गत वर्ष गठित एक कमिटी की रिपोर्ट को देखें, तो वित्तीय वर्ष 2017-18 और 2018-19 के दौरान रिन्यूअल के आये आवेदन में केवल 95 हॉस्टल और लॉज को लाइसेंस दिया गया है.

नगर आयुक्त के निर्देश के बाद अब बाजार शाखा जल्द ही संचालित कई अवैध हॉस्टलों और लॉजों को नोटिस भेजने की तैयारी में है.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह : सात साइबर अपराधी दबोचे गये; कई स्मार्टफोन, सिम, एटीएम बरामद

लाइसेंस लेने में संचालकों की रुचि नहीं

शाखा में कार्यरत सिटी मैनेजरों की मानें, तो शहर में संचालित सभी हॉस्टल और लॉज संचालकों को कई बार लाइसेंस लेने का  निर्देश भी जारी किया गया है, लेकिन संचालकों के तरफ से कोई पहल नहीं की गयी.

नोटिस के बाद होगी प्राथमिकी

बाते दें कि कुछ दिन पहले ही अपर नगर आयुक्त गिरिजा शंकर ने अवैध संचालन कर रहे हॉस्टल और लॉज मालिकों को एक नोटिस दिया था. नोटिस में कहा गया था कि वैसे संचालक लाइसेंस लेने के लिए निगम में ऑनलाइन आवेदन करें.

आवेदन देने के साथ ही वैसे संचालकों को बिल्डिंग प्लान भी देना जरूरी है. लेकिन कई संचालकों के पास कोई बिल्डिंग प्लान ही नहीं है.

SMILE

इसे देखकर ही उन्होंने निगम के इंर्फोसमेंट टीम को निर्देश दिया था कि अवैध संचालित हॉस्टलों और लॉज में छापेमारी कर उसे सील करने का काम करें. उन्होंने ऐसे संचालकों पर एफआइआर दर्ज कराने की बात कही थी.

एक बार फिर निगम वैसे संचालकों को नोटिस भेज कर आवेदन करने की बात कही है.

इसे भी पढ़ें : प. बंगालः आठवीं के इतिहास की किताब में खुदीराम बोस को बताया आतंकी!

रिन्यूअल किये गये हॉस्टल और लॉज

बाजार शाखा में रखे रिकॉर्ड के मुताबिक दो वित्तीय वर्ष में जिन 68 हॉस्टल संचालकों ने रिन्यूअल कराया है, उसमें करमटोली चौक स्थित गोंगी जोगिया ब्यॉज हॉस्टल, नगरा टोली स्थित गोकुल गर्ल्स हॉस्टल, लालपुर स्थित चंद्राणी गर्ल्स हॉस्टल, आर.के. गर्ल्स  हॉस्टल, हिंदपीड़ी स्थित प्रीत हॉस्टल, करमटोली स्थित गीतांजलि हॉस्टल, डोरंडा स्थित लवली गर्ल्स हॉस्टल, निर्मला कॉलेज हॉस्टल, संत अन्ना ज्योति कलश छात्रावास, मय्यर गर्ल्स हॉस्टल, पथलकुदवा स्थित ललित हॉस्टल, पुरुलिया रोड स्थित कृष्णालय गर्ल्स हॉस्टल, कडरू स्थित पारूल गर्ल्स  हॉस्टल, नया टोली स्थित केच हॉस्टल, काली स्थान रोड स्थित जानकी गर्ल्स हॉस्टल प्रमुख है. वही रिन्यूअल के लिए आए 27 लॉज में लालपुर स्थित चम्पी लॉज, सुप्रोभा ब्यॉज लॉज, पुरूलिया रोड स्थित प्रजापति निवास, हटिया स्थित चेरिश गेस्ट हाउस, पत्थलकुदवा स्थित मारसल गल्स लॉज, स्टेशन रोड स्थित अजीत रेसिडेंसी, कांटाटोली स्थित आलम लॉज, शबनम लॉज, पी.पी.कम्पाउंड स्थित अमृत लॉज, बड़गाई स्थित संदीप लॉज प्रमुख हैं.

हॉस्टल और लॉज में होनी चाहिए ये सुविधाएं

निगम अंतर्गत रजिस्टर्ड कराये गये हॉस्टलों और लॉज में कई सुविधाओं का होना आवश्यक है. इसमें संचालकों का नाम, पता, मोबाइल नंबर, निवास करने वालों और कमरों व बेड की संख्या, कमरों में खिड़कियों, टॉयलेट की संख्या सहित बिजली, जलापूर्ति और सफाई, होल्डिंग नंबर, सुरक्षा व्यवस्था और पार्किंग की जानकारी देना जरूरी है.

इसे भी पढ़ें : 107 वर्षीया वेजुबेन मेहता ने किया संथारा, धनबाद जिले में ऐसी पहली घटना

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: