BokaroJharkhand

बोकारोः टूटे हुए ऐश पौंड को बनाने में फिर से हो रहा है मोरम का इस्तेमाल, पहले भी हो चुकी है शिकायत

Bermo: बोकारो थर्मल नूरीनगर स्थित डीवीसी के टूटे हुए एक नंबर ऐश पौंड, स्टेलिंग पौंड,रिकवरी वाटर सम्प हाऊस सिस्टम को दुरुस्त करने का काम जोरों पर है. इंजीनियरों की देखरेख में लगातार मरम्मत का काम करवाया जा रहा है.

ताकि 500 मेगावाट के ए पावर प्लांट को चालू किया जा सके. पावर प्लांट से बिजली उत्पादन का काम पिछले 31 दिनों से ठप पड़ा हुआ है. जिसके कारण डीवीसी को काफी आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ रहा है.

और प्लांट को चालू करने को लेकर डीवीसी पर काफी दवाब है. डीवीसी के प्रभारी अध्यक्ष द्वारा पावर प्लांट को चालू करने को लेकर दिया गया समय सीमा 9 अक्टूवर भी समाप्त हो गया है.

advt

इसे भी  पढ़ेंः #BabriMasjidCase : भाजपा पर विवादित पोस्ट के बाद माकपा नेता मोहम्मद सलीम का टि्वटर अकाउंट ब्लॉक

टूटे स्टेलिंग पौंड के निर्माण में पुनः हो रहा मोरम का उपयोग

ऐश पौंड स्थित एक एवं दो नंबर स्टेलिंग पौंड के बीच की मिट्टी के क्षतिग्रस्त बांध को मरम्मत करने में फिर से मिट्टी के साथ-साथ मोरम का उपयोग धड़ल्ले से किया जा रहा है. बताया जाता है कि वर्तमान में ऊपरघाट के पिलपिलो से पौंड मरम्मत के लिए जो मिट्टी मंगायी जा रही है.

उसमें मोरम की मात्रा काफी है. पूर्व में पौंड में मिट्टी के स्थान पर मोरम का उपयोग करने के कारण ही पौंड टूटा था. बेरमो विधायक योगेश्वर महतो बाटुल, गिरिडीह सांसद सीपी चैधरी, सांसद प्रतिनिधि लंबोदर महतो ने इसकी शिकायत की थी.

इसे भी पढ़ेंः #RTI: सूचना मांगने पर आरटीआइ कार्यकर्ता अधिकारियों की नजर में ब्लैकमेलर बन जाते हैं

adv

स्टेलिंग पौंड में जमा छाई को निकालने का काम है जारी

दो नंबर स्टेलिंग पौंड में वर्तमान में जमा लगभग पांच फीट छाई को पोकलेन से निकालने का काम जारी है. कंपनी के कामगारों का कहना है कि पौंड में जितनी मात्रा में वर्तमान में छाई जमा है, उसे निकालने में लगभग एक सप्ताह का समय और लगेगा.

रिकवरी वाटर सम्प में जमा है छाई

इसी प्रकार रिवकरी सिस्टम के वाटर सम्प में भी लगभग छह फीट से ज्यादा छाई वर्तमान में जमा है जिसे मैनुअल मजदूरों एवं मशीन से निकालने का काम किया जा रहा है. छाई के गीला होने की वजह से उसे निकालने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. वाटर सम्प से भी छाई को निकालने में एक सप्ताह का समय लगेगा.

पंप हाऊस का एक मोटर क्षतिग्रस्त

ऐश पौंड के रिकवरी सिस्टम स्थित पंप हाऊस के चार पंप में से तीन को मरम्मत कर लिया गया है जबकि दो नंबर पंप पौंड के बाढ़ की पानी से क्षतिग्रस्त हो गया है.

और उसकी मरम्मत का काम नहीं किया जा सका है. पंप हाऊस के कामगार कहते हैं कि पावर प्लांट को चालू किये जाने पर तीन पंप से काम आसानी से चलाया जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंः #EconomyRecession: जारी है उत्पादन में गिरावट, इंडस्ट्रियल सेक्टर का सात सालों का सबसे खराब प्रदर्शन

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button